पहले हरियाणा की सत्ता में जमाई धाक, अब दिल्ली में केजरीवाल से दो-दो हाथ करने को तैयार JJP!

हरियाणा में इनेलो से अलग होकर जेजेपी यानि जननायक जनता पार्टी के नाम से अपनी पार्टी बनाने वाले दुष्यंत चौटाला की नजर अब दिल्ली पर है. 

पहले हरियाणा की सत्ता में जमाई धाक, अब दिल्ली में केजरीवाल से दो-दो हाथ करने को तैयार JJP!
कुल मिलाकर दिल्ली विधानसभा चुनावों की दुष्यंत की पार्टी के माहौल से बात करें तो हरियाणा का कुछ एरिया दिल्ली के साथ सटा है.

हिसार: हरियाणा में इनेलो से अलग होकर जेजेपी यानि जननायक जनता पार्टी के नाम से अपनी पार्टी बनाने वाले दुष्यंत चौटाला की नजर अब दिल्ली पर है. दरअसल, दुष्यंत की पार्टी ने हरियाणा में बीजेपी को अपना समर्थन दिया और उसी समर्थन से बीजेपी दोबारा से सत्ता में है. हालांकि निर्दलीय विधायकों के दम पर भी बीजेपी सत्ता में आ सकती थी, लेकिन पार्टी के नेतृत्व में ने दुष्यंत चौटाला को हरियाणा में डिप्टी सीएम का पद देकर उनकी पार्टी का समर्थन ले लिया. कुछ ही दिनों बाद दिल्ली में विधानसभा के चुनाव होने है.

हरियाणा के डिप्टी सीएम और जननायक जनता पार्टी के नेता दुष्यंत चौटाला ने दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर पार्टी की रणनीति क्या रहेगी, इस पर अपनी बात स्पष्ठ कर दी है. दुष्यंत आज हिसार में आए थे, इस बीच उन्होंने दिल्ली चुनाव पर अपनी बात रखी. दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जनवरी के पहले हफ्ते में मीटिंग होनी है, इस बैठक में रणनीति बनाएंगे. पार्टी ने जिला प्रधानों की ड्यूटी लगाई है, वो रिपोर्ट कंपाइल करके देंगे. दुष्यंत ने इस दौरान कहा कि दिल्ली में उनके एक से 3 विधायक रह चुके है. उन्होंने इस बीच चौधरी देवीलाल की सोच और ​नीतियों का जिक्र करते हुए कहा कि उनकी सोच और नीतियों को जन-जन तक पहुंचाना उद्देश्य है.  

क्या बीजेपी के साथ मिलकर लडेंगे
वहीं दुष्यंत से जब यह पूछा गया कि क्या बीजेपी के साथ मिलकर दिल्ली में चुनाव जेजेपी बीजेपी के साथ मिलकर लड़ेगी तो इस पर दुष्यंत का कहना था कि संगठन की बैठक होगी. उसमें क्या निर्णय निकलता है, उसके बाद की बाते है.

कुल मिलाकर दिल्ली विधानसभा चुनावों की दुष्यंत की पार्टी के माहौल से बात करें तो हरियाणा का कुछ एरिया दिल्ली के साथ सटा है. आम आदमी पार्टी फिलहाल दिल्ली में सत्ता में है, अरविंद केजरीवाल की आप के साथ दुष्यंत मिलकर हरियाणा में जींद उपचुनाव और लोकसभा चुनाव लड़ चुके है. फिलहाल दुष्यंत हरियाणा में बीजेपी के साथ है. ऐसे में जनवरी में होने वाली मीटिंग पर यह नजरे जरूर रहेंगी कि दुष्यंत बीजेपी के साथ जाते है या खुद अपने दम पर जेजेपी मैदान में उतरती है.