close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

9 घंटे से ज्यादा वक्त तक हुई सर्जरी, डॉक्टरों ने पैर का सबसे बड़ा ट्यूमर निकाला

प्रवीण कुमार गुप्ता को 26 दिसंबर, 2018 को सर गंगा राम अस्पताल में आर्थोपेडिक्स विभाग में भर्ती कराया गया था. 

9 घंटे से ज्यादा वक्त तक हुई सर्जरी, डॉक्टरों ने पैर का सबसे बड़ा ट्यूमर निकाला
डॉक्टरों ने न केवल प्रवीण का ट्यूमर निकाला बल्कि उसके पैर को काटे जाने से भी बचा लिया.

नई दिल्ली: दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में नौ घंटे तक चले मैराथन ऑपरेशन के बाद 18 वर्षीय युवक की जांघ से 37 सेंटीमीटर लंबा एक विशाल ट्यूमर निकाला गया, जिससे उसे नया जीवन मिला. डॉक्टरों ने बुधवार को यह जानकारी दी. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कहा जा रहा है कि यह ट्यूमर पैर का अब तक का सबसे बड़ा ट्यूमर है. 

उन्होंने कहा कि प्रवीण कुमार गुप्ता को 26 दिसंबर, 2018 को सर गंगा राम अस्पताल में आर्थोपेडिक्स विभाग में भर्ती कराया गया था लेकिन यहां से पहले उन्होंने कई अस्पतालों में जांच कराई थी लेकिन सभी जगह उनका पैर काटे जाने की ही सलाह दी गई थी. 

अस्पताल के एक प्रवक्ता ने बताया कि जांच से पता चला कि उसकी जांघ में 37 सेंटीमीटर लंबा 18 सेमी चौड़ा और 12 सेमी मोटा एक विशाल ट्यूमर था, जो कूल्हे और जांघ के पूरे पिछले हिस्से को प्रभावित कर रहा था. लेकिन इस ऑपरेशन के साथ डॉक्टरों ने न केवल प्रवीण का ट्यूमर निकाला बल्कि उसके पैर को काटे जाने से भी बचा लिया. डॉक्टरों के मुताबिक यह पैर से निकाला गया सबसे बड़ा ट्यूमर है और इसे निकालने के लिए मात्र एक बोटल खून की आवश्यता पड़ी. 

2012 से पीड़ित थे प्रवीण
जानकारी के मुताबिक प्रवीण के ट्यूमर प्रभावित हिस्से में 2012 में ही सूजन दिखाई देने लगी थी और वक्त के साथ यह ट्यूमर बढ़ता चला गया. इस सर्जरी के लिए आर्थोपेडिक्स, वैस्कुलर सर्जरी, प्लास्टिक सर्जरी और एनेस्थिसियोलॉजी विभाग के चिकित्सकों से मदद ली गई. 

(इनपुट भाषा से भी)