जाफराबाद हिंसा: वायरल वीडियो का सच, आंसू गैस नहीं हाथ में पकड़े पेट्रोल बम से घायल हुआ था शख्स

 इस वीडियो को यह बताकर शेयर किया जा रहा है कि शख्स पुलिस के आंसू गैस से घायल हुआ है. लेकिन अब पुलिस ने इस वीडियो की सच्चाई बताई है. 

जाफराबाद हिंसा: वायरल वीडियो का सच, आंसू गैस नहीं हाथ में पकड़े पेट्रोल बम से घायल हुआ था शख्स
पुलिस ने शख्स को हिंसा फैलाने के जुर्म में गिरफ्तार कर लिया है.

नई दिल्ली: जाफराबाद-सीलमपुर हिंसा (Jafrabad Seelampur Violence) में बीते मंलगवार को हुई हिंसा का एक टिकटोक वीडियो (Tiktok Video) वायरल हो रहा है. वीडियो में आंसू गैस का गोला गिरते ही भीड़ इधर-उधर भागती दिखाई दे रही है. इसी बीच एक धमाका होता है जिसमें एक शख्स बुरी तरह से जख्मी हो जाता है. शख्स के एक हाथ की हथेली के चिछड़े उड़े हुए दिखाई दे रहे हैं. इस वीडियो को यह बताकर शेयर किया जा रहा है कि शख्स पुलिस के आंसू गैस से घायल हुआ है. लेकिन अब पुलिस ने इस वीडियो की सच्चाई बताई है. 

दरअसल, इस वीडियो में दावा किया जा रहा है कि पुलिस द्वारा दागे गए आंसू गैस के गोले से यह शख्स घायल हो गया. लेकिन इस पूरे मामले में पुलिस अधिकारियों का कहना है कि शख्स जाफराबाद-सीलमपुर हिंसा में घायल हुआ है लेकिन वह पुलस के आंसू गैस के गोले से नहीं बल्कि हिंसा फैलाने के मकसद से साथ लाए पेट्रोल बम से घायल हुआ है. 

ये भी पढ़ें: CAA Protest LIVE: दिल्ली, यूपी, बिहार, चंडीगढ़, महाराष्ट्र और कर्नाटक में व्यापक प्रदर्शन

पुलिस ने कहा कि यह शख्स पुलिस पर पेट्रोल बम फेंकना चाहता था लेकिन इससे पहले ही बम उसके हाथ में ही फट गया और उसकी हथेली के चिथड़े उड़ गए. पुलिस ने इस शख्स हिंसा फैलाने के मामले में गिरफ्तार किया है और दवा किया है कि यह टिकटोक वीडियो आरोपी ने खुद बनाया है और ये वीडियो उसके मोबाइल से मिला है. 

ये भी देखें