कांग्रेस से गठबंधन के लिए तरस रहे केजरीवाल, कुमार विश्वास ने किया कटाक्ष

अरविंद केजरीवाल लोकसभा चुनाव से पहले लगातार इस कोशिश में लगे हैं कि किसी तरह से उनका कांग्रेस के साथ गठबंधन हो जाए.

कांग्रेस से गठबंधन के लिए तरस रहे केजरीवाल, कुमार विश्वास ने किया कटाक्ष
फाइल फोटो

नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस के साथ गठबंधन को आतुर दिख रहे आम आदमी पार्टी के प्रमुख और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर उनके पुराने साथी और कवि डॉ कुमार विश्वास ने एक बार फिर जोरदार हमला किया है. अपने तरकश से तंज भरे तीर निकालते हुए कुमार विश्वास ने केजरीवाल को कायर-मनोरोगी और सत्ता का लालची करार देते हुए कार्यकर्ताओं को सुझाया है कि वह इनके लिए क्यों गालियां खा रहे हैं? आप के पूर्व नेता ने हाल ही में दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने को लेकर आप कार्यकर्ताओं द्वारा कांग्रेस ऑफिस के बाहर प्रदर्शन किए जाने का भी जिक्र किया.

विश्वास ने अपने ट्वीट में केजरीवाल को 'आत्ममुग्ध बौना' करार देते हुए लिखा कि कल तक जिनके दफ्तर के बाहर प्रदर्शन कर रहे थे आज उनकी के दफ्तर के बाहर हरियाणा में गठबंधन को लेकर लालायित दिख रहे हैं.

बता दें कि अरविंद केजरीवाल लोकसभा चुनाव से पहले लगातार इस कोशिश में लगे हैं कि किसी तरह से उनका कांग्रेस के साथ गठबंधन हो जाए. केजरीवाल ने दिल्ली में लोकसभा की 7 सीटों को लेकर कांग्रेस गंठबंधन की बात की थी लेकिन दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने राहुल गांधी से इसके लिए मना कर दिया. इसके बाद केजरीवाल पंजाब में गठबंधन के लिए कहने लगे और उन्होंने इसकी जिम्मेदारी भगवंत मान को दी. पंजाब के सीएम और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह से जब आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन के लिए पूछा गया तो उन्होंने साफ इंकार कर दिया. 

इसके बाद केजरीवाल ने कहा कि हम चाहते हैं कि कांग्रेस कम से कम हरियाणा में तो हमारे साथ गठबंधन कर ले. केजरीवाल ने कहा कि हम हरियाणा में जननायक जनता पार्टी, आम आदमी पार्टी और कांग्रेस मिलकर लोकसभा का चुनाव लड़ें. 

इस बीच केजरीवाल की अपील पर कांग्रेस की प्रतिक्रिया आने से पहले ही लोकसभा सदस्य दुष्यंत चौटाला की अगुवाई वाली जेजेपी ने कांग्रेस के साथ गठबंधन की संभावनाओं को सिरे से खारिज कर दिया. जेजेपी के महासचिव के सी बांगड़ ने चंडीगढ़ में कहा, ‘‘जेजेपी हरियाणा में मजबूत पार्टी बन चुकी है और हरियाणा की सभी सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने में सक्षम है. जेजेपी ने ना तो कभी कांगेस के साथ गठबंधन की संभावना पर विचार किया और ना ही आगे करेगी. जेजेपी ऐसे किसी गठबंधन का हिस्सा नहीं बनेगी जिसमें कांग्रेस शामिल हो.’’ 

इससे पहले, दिल्ली के पूर्ण राज्य की मांग से बीजेपी द्वारा मुकरने के आरोप में आप द्वारा आयोजित धरना प्रदर्शन में हिस्सा लेने पहुंचे केजरीवाल ने गठबंधन की जरूरत को स्पष्ट करते हुये कहा, ‘‘देश में अमित शाह और मोदी की जोड़ी को हराने के इच्छुक लोगों की संख्या बहुत अधिक है. लेकिन ये लोग आपस में बंटे हुये हैं, उन सबको साथ आने की जरूरत है.’’ 

केजरीवाल ने कहा कि लोगों के बंटे होने के कारण ही मोदी और अमित शाह की जोड़ी जीतती है. उन्होंने कहा, ‘‘मैं राहुल गांधी जी को प्रस्ताव देना चाहता हूं कि हरियाणा में अगर जेजेपी, आप और कांग्रेस, तीनों साथ आकर चुनाव लड़ते हैं तो हरियाणा की सभी दस सीटों पर बीजेपी को हराया जा सकता है.’’ 

हालांकि, उन्होंने दिल्ली में गठबंधन के सवाल पर कहा कि आप को दिल्ली में कांग्रेस के साथ गठबंधन की कोई जरूरत नहीं है. केजरीवाल ने कहा, ‘‘दिल्ली में हम (आप) बिना कांग्रेस के ही जीत रहे हैं. इसलिये दिल्ली के लोगों को अब चिंता करने की जरूरत नहीं है.’’ 

(इनपुट भाषा से भी)