अंतिम चरण के चुनाव में बिहार के 8 सीटों पर कई दिग्गज समेत 4 मंत्रियों के भाग्य का भी होगा फैसला

बिहार में सातवें चरण के चुनाव में 8 सीटों पर कुल 157 उम्मीदवार मैदान में हैं. लेकिन इसमें 8 से 9 उम्मीदवार ऐसे हैं जिस पर पूरे देश की नजर है.

अंतिम चरण के चुनाव में बिहार के 8 सीटों पर कई दिग्गज समेत 4 मंत्रियों के भाग्य का भी होगा फैसला
बिहार में आखिरी चरण के चुनाव में चार केंद्रीय मंत्री और कई दिग्गज नेता चुनाव लड़ रहे हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव 2019 का अंतिम चरण का चुनाव काफी अहम है. आखिरी फेज में देश में 8 राज्यों में 69 सीटों पर मतदान किया जाएगा. वहीं, इस फेज में बिहार के 8 सीट भी काफी महत्वपूर्ण हैं. इन सभी सीटों पर दिग्गज राजनेताओं के बीच टक्कर हो रही है. जिसमें चार केंद्रीय मंत्री भी शामिल हैं.

बिहार में सातवें चरण के चुनाव में 8 सीटों पर कुल 157 उम्मीदवार मैदान में हैं. लेकिन इसमें 8 से 9 उम्मीदवार ऐसे हैं जिस पर पूरे देश की नजर है. साथ ही चार केंद्रीय मंत्रियों के भाग्य का फैसला भी मतदाता करने वाले हैं इसलिए आखिरी चरण का चुनाव काफी दिलचस्प होगा.

बिहार के आठ सीटों में पटना साहिब, पाटलिपुत्र, बक्सर, आरा, सासाराम, काराकाट, जहानाबाद और नालंदा में मतदान होना है. इन सभी सीटों पर पूरे देश की नजर टिकी है. क्योंकि इन सभी सीटों पर कोई न कोई दिग्गज नेता मैदान में हैं. इसमें से सबसे अहम पटना साहिब सीट है. जहां केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और शत्रुघ्न सिन्हा के बीच टक्कर है. 

वहीं, पाटलिपुत्र में भी केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव और मीसा भारती के बीट लड़ाई है. इसके साथ बक्सर सीट पर भी केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे और जगदानंद सिंह के बीच टक्कर है. जबकि आरा में केंद्रीय मंत्री आरके सिंह चुनाव लड़ रहे हैं. इसलिए इन चारों केंद्रीय मंत्रियों के जीत हार का फैसला मतदाता अंतिम चरण में करने वाले हैं.

इसके अलावा सासाराम सीट पर पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार मैदान में है. वह कांग्रेस की दिग्गज नेता हैं. इसके अलावा काराकाट सीट पर पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा चुनाव लड़ रहे हैं. पिछली बार उन्होंने बीजेपी के साथ मिलकर इस सीट को जीतने में कामयाब हुए थे. लेकिन इस बार वह बीजेपी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं. इसलिए इस सीट पर सभी की नजर टिकी है.

वहीं, नालंदा सीट पर भी सभी की नजर होगी. पिछली बार जेडीयू इस सीट को जीतने में कामयाब हुई थी. वहीं, कौशलेंद्र कुमार यहां दो बार लागातार जीत दर्ज की है. जेडीयू ने इस बार भी कौशलेंद्र कुमार पर भरोसा जताया है. इसलिए देखना यह है कि कौशलेंद्र इस सीट को बचाने और अपनी हैट्रिक जीत दर्ज करने में कामयाब होते हैं या नहीं.

सबसे अहम पटना साहिब सीट है जहां शत्रुघ्न सिन्हा के सामने रविशंकर प्रसाद की चुनौती है. शत्रुघ्न सिन्हा दो बार लगातार यहां से चुनाव जीत चुके हैं. हालांकि उन्होंने बीजेपी में रहकर दो बार यह सीट जीती है. लेकिन इस बार वह कांग्रेस से इस सीट पर चुनाव लड़ रहे हैं. और सामने रविशंकर प्रसाद की चुनौती है. देखना यह है कि यहां कि जनता शत्रुघ्न सिन्हा को वोट देती है या फिर बीजेपी को जीताती है.

वहीं, पाटलिपुत्र सीट लालू परिवार के लिए नाक का सवाल बन गया है. लालू यादव की बेटी मीसा भारती दोबारा इस सीट से चुनाव लड़ रही है. साथ ही वह एक मात्र उम्मीदवार है जो लालू परिवार की ओर से मैदान में है. इसलिए लालू परिवार के लिए यह सीट जीतना अहम है. हालांकि पिछली बार मीसा भारती को रामकृपाल यादव से शिकस्त मिली थी. इसलिए इस सीट को जीतने के लिए लालू परिवार ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है.

सातंवें चरण के 8 सीटों पर बड़े उम्मीदवार
नालंदा- अशोक कुमार आजाद चंद्रवंशी (HAM)   कौशलेंद्र कुमार (JDU)
पटना साहिब-   शत्रुघ्न सिन्हा  (Congress)         रविशंकर प्रसाद (BJP)
पाटलीपुत्र- मीसा भारती (RJD)                        रामकृपाल यादव (BJP)
आरा- राजू यादव (CPI-ML)                           आरके सिंह (BJP)
बक्सर- जगदानंद सिंह (RJD)                        अश्विनी कुमार चौबे (BJP)
सासाराम- मीरा कुमार (Congress)                छेदी पासवान (BJP)
काराकाट- उपेंद्र कुशवाहा (RLSP)                  महाबली सिंह (JDU)
जहानाबाद- सुरेंद्र यादव (RJD)                       चंद्रेश्वर प्रसाद (JDU)