लोकसभा चुनाव 2019: जानें जजपुर सीट का राजनीतिक इतिहास

बीजेडी ने इस सीट पर सर्मिष्ठा सेठी को अपना उम्मीदवार बनाया है. वहीं बीजेपी ने अमिया कांता मलिक जबकि कांग्रेस मानस जेना को वोट दिया है. 

लोकसभा चुनाव 2019: जानें जजपुर सीट का राजनीतिक इतिहास
(प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्ली: जजपुर लोकसभा की उन सीटों में शामिल है जहां चोथे चरण (29 अप्रैल) को वोट डाले जाने हैं. बीजेडी ने इस सीट पर सर्मिष्ठा सेठी को अपना उम्मीदवार बनाया है. वहीं बीजेपी ने अमिया कांता मलिक जबकि कांग्रेस मानस जेना को वोट दिया है. 

2014 के लोकसभा चुनाव में इस सीट पर रीता तराई ने चुनाव जीता था. उन्हें 5,41,349 वोट मिले थे. दूसरे नंबर पर कांग्रेस रही थी जिसके उम्मीदवार अशोक दास को 2,21,078 वोट मिले थे. बीजेपी इस सीट पर तीसरे नंबर पर रही थी. 

जजपुर सीट का राजनीतिक इतिहास
जजपुर सीट पर बीजेडी पिछले कई चुनाव जीतती आ रही है. कांग्रेस ने आखिरी बार यहां 1998 में चुनाव जीता था. वहीं बीजेपी इस सीट पर अपना खाता नहीं खोल सकी है. 

इस सीट पर 1952 में हुए पहले चुनाव में कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी. अगली जीत के लिए कांग्रेस को दस साल का इंतजा करना पड़ा और 1962 में यहां कांग्रेस के राम चंद्र मलिक चुनाव जीते. अगले दो चुनाव  (1967, 1971) में यहां से कांग्रेस को हार का सामान करना पड़ा.  1977 में कांग्रेस ने यहां जीत दर्ज की. इसके बाद 1984 में एक बार फिर यह सीट कांग्रेस के पास आई. 

अगले तीन चुनाव 1989, 1991, 1996 में यहां से जनता दल ने जीत हासिल की. 1998 में एक बार फिर कांग्रेस को इस सीट पर जीत मिली. इसके बाद अगले चार चुनावों - 1999, 2004, 2009 और 2014 में इस सीट पर बीजेडी ने जीत हासिल की.