close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रामदास अठावले का दावा, भोपाल से साध्वी प्रज्ञा को उम्मीदवार बनाकर BJP ने की सबसे बड़ी गलती

भोपाल लोकसभा क्षेत्र से साध्वी प्रज्ञा को उम्मीदवार बनाकर भारतीय जनता पार्टी ने सबसे बड़ी गलती की है और उसे लोकसभा चुनाव में इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा. साध्वी प्रज्ञा बीजेपी के लिए चुनाव में गलती साबित हो सकती हैं और भोपाल में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ सकता है.

रामदास अठावले का दावा, भोपाल से साध्वी प्रज्ञा को उम्मीदवार बनाकर BJP ने की सबसे बड़ी गलती
रिपब्लिकन पार्टी आफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय राज्य मंत्री रामदास आठवले

नई दिल्लीः रिपब्लिकन पार्टी आफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय राज्य मंत्री रामदास आठवले ने दावा किया है कि भोपाल लोकसभा क्षेत्र से साध्वी प्रज्ञा को उम्मीदवार बनाकर भारतीय जनता पार्टी ने सबसे बड़ी गलती की है और उसे लोकसभा चुनाव में इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा. साध्वी प्रज्ञा बीजेपी के लिए चुनाव में गलती साबित हो सकती हैं और भोपाल में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ सकता है.

हालांकि यह पार्टी का निजी मामला है, लेकिन साध्वी की गलत बयानबाजी पार्टी को काफी नुकसान पहुंचा सकती है. इसलिए पार्टी को साध्वी प्रज्ञा को कंट्रोल करना चाहिए, ताकि वह आए दिन जिस तरह से विवादित बयान देती जा रही हैं, उस पर लगाम लगाया जा सके. 

उमा भारती के बयान पर बोलीं साध्वी प्रज्ञा- उमा दीदी के मन में मेरे लिए बहुत सम्मान है

वहीं साध्वी प्रज्ञा के मुंबई हमले में शहीद हेमंत करकरे पर दिए बयान पर नाराजगी जताते हुए आठवले ने कहा कि हमने साध्वी के इस बयान की निंदा की थी. एक शहीद जवान के बारे में इस तरह की गलत बातें बोलना गलत है. वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर दिए बयान को लेकर भी आठवले ने मायावती पर निशाना साधा और कहा कि अगर कोई खुद को दलित बताता है तो यह पॉलिटिकल गेन नहीं है. बता दें कुछ हाल ही में बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा था कि 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पॉलिटिकल गेन के लिए खुद को दलित बताते हैं.'

लोकसभा चुनाव 2019: भोपाल से प्रज्ञा ठाकुर सहित इन पांच उम्मीदवारों ने वापस लिया नामांकन

मायावती के बयान पर निशाना साधते हुए आठवले ने कहा कि 'वे ओबीसी वर्ग से आते हैं, तो अगर वह खुद को दलित बता रहे हैं तो इसमें क्या गलत है.' वहीं आरक्षण के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि अगर अनुसूचित जाति, पिछड़ा वर्ग को आरक्षण मिलना चाहिए. मैं तो सवर्णो को आरक्षण मिलने के भी पक्ष में हूं. मैंने खुद बार-बार सवर्णों के आरक्षण की मांग उठाई थी. तभी 10 फीसदी आरक्षण का फैसला हुआ. बता दें आरपीआई ने मध्य प्रदेश की 29 सीटों में से सिर्फ पांच सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा की है. जिनमें सतना, जबलपुर, मुरैना, रतलाम और सीधी लोकसभा क्षेत्र शामिल हैं.