ऑस्ट्रेलिया में सदी की सबसे भयंकर बाढ़, नदियों का पानी घरों में और सड़क पर घूम रहे मगरमच्छ

ऑस्ट्रेलिया में कुछ दिनों से काफी बारिश हो रही है, जिसके चलते ऑस्ट्रेलिया के उत्तर पूर्वी हिस्से में पानी घरों में घुसने लगा है

ऑस्ट्रेलिया में सदी की सबसे भयंकर बाढ़, नदियों का पानी घरों में और सड़क पर घूम रहे मगरमच्छ
शहर में बारिश और पानी से हालात इस कदर बद्तर हो गए हैं कि जंगली जानवर और सांप जैसे खतरनाक जानवर घरों में घुसने लगे हैं.(फोटो साभारः ट्विटर)

सिडनीः ऑस्ट्रेलिया में सदी की सबसे भयंकर बाढ़ ने सिर्फ इंसान बल्कि जंगली जानवरों के लिए भी परेशानी का सबब बन गई है. जहां एक ओर बाढ़ के चलते उत्तर पूर्वी इलाके में हजारों लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा तो वहीं नदियों का पानी सड़क पर आ जाने से मगरमच्छ जैसे भयानक जानवर सड़कों और पेड़ों पर घूम रहे हैं, जिससे लोगों की परेशानी और भी बढ़ गई है. बता दें यह बाढ़ इतनी भयानक थी कि सेना के जवानों और पुलिस को लोगों को सही सलामत सेफ जगह तक पहुंचाने के लिे लगना पड़ा. बता दें ऑस्ट्रेलिया में कुछ दिनों से काफी बारिश हो रही है, जिसके चलते ऑस्ट्रेलिया के उत्तर पूर्वी हिस्से में पानी घरों में घुसने लगा है. वहीं नदियों का जलस्तर इतना बढ़ गया है कि नदी कहां है और कहां सड़क यह समझ ही नहीं आ रहा है.

8500 फीट की ऊंचाई पर गुलमर्ग में एक ऑस्ट्रेलियाई जोड़े ने रचाई शादी

मौसम विभाग के अधिकारियों के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया के उत्तरी हिस्से में मानसून के समय वैसे तो काफी बारिश होती है, लेकिन इस बार कि बारिश का जलस्तर अन्य सालों की तुलना में काफी अधिक है. बता दें ऑस्ट्रेलिया में हाल ही में हुई बारिश से टाउंसविले शहर में लोगों को बिना बिजली के दिन और रात गुजारनी पड़ रही है वहीं कई घर जलमग्न हो चुके हैं, जिसके चलते प्रशासन ने सैनिकों को स्थानीय लोगों की मदद में लगाया है.

मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि ऐसा 100 साल में पहली बार हो रहा है, जब ऑस्ट्रेलिया में इतनी भयानक बाढ़ आई है. इससे पहले बीते 10-20 या 50 सालों में ऐसा मंजर देखने को नहीं मिला. क्वींसलैंड के टाउंसविले शहर के लोगों का कहना है कि यह पहली बार है जब वह ऐसा मंजर देख रहे हैं. शहर में बारिश और पानी से हालात इस कदर बद्तर हो गए हैं कि जंगली जानवर और सांप जैसे खतरनाक जानवर घरों में घुसने लगे हैं और तो और सड़कों पर भी मगरमच्छों ने आतंक मचा रखा है, जिससे बाहर निकलने में भी डर लग रहा है.