close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

9 मई को खुलेंगे बाबा केदारनाथ के कपाट, पड़ रहा है ये शुभ संयोग

कपाट खोलने की तारीख और समय की घोषणा महाशिवरात्रि के अवसर पर रुद्रप्रयाग जिले के उखीमठ के ओंकारेश्वर मंदिर में की गई. पुजारियों ने मंत्रोच्चारण और शंखध्वनि के बीच यह घोषणा की.

9 मई को खुलेंगे बाबा केदारनाथ के कपाट, पड़ रहा है ये शुभ संयोग
साल 2019 में आदि गुरु शंकराचार्य की जयंती के अवसर पर मंदिर के कपाट को खोला जाएगा. (फाइल फोटो.)

देहरादून: उत्तराखंड के चार धामों में से एक केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट करीब छह महीने तक बंद रहने के बाद नौ मई को फिर से खुलेंगे. अधिकारियों ने सोमवार (04 मार्च) को जानकारी दी. कपाट खोलने की तारीख और समय की घोषणा महाशिवरात्रि के अवसर पर रुद्रप्रयाग जिले के उखीमठ के ओंकारेश्वर मंदिर में की गई. पुजारियों ने मंत्रोच्चारण और शंखध्वनि के बीच यह घोषणा की.

जानकारी के मुताबिक, महाशिवरात्रि के शुभ अवसर पर श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति की ओर से आयोजित समारोह में रावल भीमाशंकर लिंग सहित वेदपाठियों, पुजारीगणों, स्थानीय हक-हकूकधारियों की उपस्थिति में पंचाग गणना के बाद श्री केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि का ऐलान हुआ. 7 मई को पहले गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुलेंगे इसके बाद 9 मई को केदारनाथ के कपाट खोले जाएंगे. 

श्री केदारनाथ भगवान के शीतकालीन गद्दी स्थल श्री ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ में इस बात पर फैसला लिया गया कि साल 2019 में आदि गुरु शंकराचार्य की जयंती के अवसर पर 9 मई को प्रातः 5 बजकर 35 मिनट पर बाबा केदारनाथ के कपाट खुलेंगे. श्री श्री केदारनाथ धाम के लिए पंचमुखी डोली उखी मठ से 6 मई को प्रस्थान करेगी. कार्यक्रम के मुताबिक 6 मई को डोली फाटा, 7 मई गौरीकुंड, 8 मई श्री श्री केदारनाथ पहुंचेगी. 9 मई को गुरुवार के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग और रवि योग का शुभ संयोग बना है, जो बेहद शुभ माना जाता है.  

 

आपको बता दें कि केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री, जिन्हें सामूहिक रूप से चारधाम कहा जाता है, हर साल अक्टूबर-नवंबर में बंद हो जाते हैं और छह महीने के अंतराल बाद अप्रैल-मई में फिर से खोल दिए जाते हैं. साल 2018 में सात लाख 32 हजार 241 यात्रियों ने बाबा केदारनाथ के दर्शन किए थे.