close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

स्टार शूटर मनु भाकर करेंगी ग्रेजुएशन, जानिए कौन से मशहूर कॉलेज में लिया एडमिशन

राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली युवा निशानेबाज मनु भाकर को दिल्ली के प्रतिष्ठित कॉलेज लेडी श्री राम कॉलेज में दखिला मिला है.

स्टार शूटर मनु भाकर करेंगी ग्रेजुएशन, जानिए कौन से मशहूर कॉलेज में लिया एडमिशन
17 साल की मनु भाकर ने फाइनल में आईएसएसएफ विश्व कप 201.0 अंक के साथ ओलंपिक कोटा जीता.(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली युवा निशानेबाज मनु भाकर को दिल्ली यूनिवर्सिटी में दाखिला मिला है. मनु को दिल्ली के प्रतिष्ठित कॉलेज लेडी श्री राम कॉलेज में दखिला मिला. हरियाणा से ताल्लुक रखने वाली भाकर ने स्पोर्ट्स कोटा के तहत दिल्ली यूनिवर्सिटी में एडमिशन के लिए अप्लाई किया था.

राजनीतिक विज्ञान की पढ़ाई करेंगी मनु
स्टार खिलाड़ी 17 वर्षीय भाकेर कॉलेज में राजनीतिक विज्ञान में स्नातक की पढ़ाई करेंगी. भारतीय खेल प्राधिकरण ने सोमवार को मनु भाकेर को बधाई देते हुए ट्वीट किया, "राजनीतिक विज्ञान की पढ़ाई करने के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रतिष्ठित कॉलेज लेडी श्री राम में दाखिला मिलने पर युवा चैम्पियन निशानेबाज मनु भाकेर को शुभकामनाएं."

दिल्ली विश्वविद्यालय में दाखिले के नियम
दिल्ली यूनिवर्सिटी के नियमों के अनुसार खेल मंत्रालय द्वारा मान्यता प्राप्त और वित्त पोषित प्रतियोगिताओं में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले खिलाड़ियों को बिना ट्रायल के सीधा एडमिशन दिया जाएगा. इस श्रेणी के अंतर्गत ओलम्पिक, विश्व चैम्पियनशिप और एशियाई खेलों जैसी प्रतियोगिताएं आती हैं.

17 साल की मनु के पास है ओलंपिक कोटा
आईएसएसएफ विश्व कप की महिला 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में चौथे स्थान पर रहते हुए मनु ने भारत के लिए निशानेबाजी में सातवां ओलंपिक कोटा हासिल किया. 17 साल की मनु ने फाइनल में 201.0 अंक के साथ ओलंपिक कोटा जीता.

मनु भाकर पिछले कुछ समय पहले चर्चा में थी
मनु भाकर दो साल पहले, झज्जर में जिला अधिकारियों द्वारा आर्म लाइसेंस से इनकार करने के बाद चर्चा में थी. बाद में, लाइसेंस जारी करते हुए अधिकारियों ने स्पष्ट किया कि लाइसेंस से इनकार कर दिया गया था क्योंकि मनु ने आत्मरक्षा के लिए आवेदन किया था.जो उसकी छोटी उम्र के कारण नहीं दिया जा सकता था.