close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IPL 2019: प्वाइंट टेबल में छाई दिल्ली की सल्तनत, उड़ी स्मिथ और विराट की नींद

आईपीएल के प्वाइंट टेबल में चेन्नई की टीम लंबे समय से टॉप पर थी, उसे दिल्ली ने छलांग लगाकर अब दूसरे नंबर पर पहुंचा दिया है. दिल्ली के टॉप पर आने से राजस्थान और बेंगलुरू की मश्किलें बढ़ती दिख रही हैं. 

IPL 2019: प्वाइंट टेबल में छाई दिल्ली की सल्तनत, उड़ी स्मिथ और विराट की नींद
आईपीएल में राजस्थान का हाल बेंगलुरू के जैसा हो गया है. (फोटो: PTI)

नई दिल्ली: इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में प्लेऑफ के केलक्युलेशन्स रोचक होते जा रहे हैं. पिछले काफी दिनों से टॉप रही चेन्नई की टीम ने अपनी बादशाहत खो दी है और उसकी जगह दिल्ली ने अपनी सल्तनत बना ली है. दिल्ली ने यह कमाल सोमवार को राजस्थान के खिलाफ उसी के घर में जीत हासिल कर किया. इस जीत से दिल्ली के भी चेन्नई की तरह 14 अंक हो गए हैं, लेकिन नेट रन रेट के कारण दिल्ली टॉप पर रहने में कामयाब रही है. अब प्लेऑफ में जाने का गणित भी बदल गया है. ऐसे में  विराट कोहली और स्टीव स्मिथ को नए सिरे रणनीति बनानी होगी.

चेन्नई का पीछे जाना तय ही लग रहा था
दिल्ली की टीम इस मैच से पहले 12 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर थी, लेकिन यह मैच जीतते ही वह पहले स्थान पर आ गई. जिस तरह से पिछले मैचों में चेन्नई की हार हुई है उससे लग ही रहा था कि चेन्नई की टीम जल्द ही टॉप स्थान खो देगी और हुआ भी यही. इस बदलाव से प्लेऑफ में पहुंचने की बाकी टीमों की संभावनाओं पर भी फर्क पड़ा है. 

यह भी पढ़ें: VIDEO: जब श्रेयस अय्यर बने पहला IPL शिकार, तो इस खिलाड़ी ने राजस्थानी अंदाज में किया सेलिब्रेट

क्या वाकई बेंगलुरू की बढ़ीं मुश्किलें
दिल्ली की जीत ने टॉप चार टीमों के बीच का संघर्ष बढ़ा दिया है जिससे बेंगलुरू जैसी टीम तक का गणित जटिल हो जाएगा. बेंगलुरू के लिए मुश्किलें बढ़ी हैं कि नहीं यह कहना जल्दबाजी भी हो सकती है, लेकिन टीम को अब नए सिरे से गणना करनी ही होगी. बेंगलुरू के लिए सबसे अच्छा यही होगा कि टॉप तीन टीमें सारे मैच जीतती रहें, लेकिन उन मैचों को छोड़ कर जो बेंगलुरू के खिलाफ होने हैं. लेकिन बेंगलुरू के सामने सबसे बड़़ी समस्या यही है कि प्वाइंट टेबल में टॉप तीन टीमें कौन सी होंगी यह तय नहीं है. 

Virat kohli

तो इससे क्या परेशानी होगी विराट कोहली को
आलम यह है कि चौथे स्थान के लिए विराट का मुकाबला चेन्नई तक से हो सकता है. अगर चेन्नई की टीम अपने सारे मैच हार जाती है और उसके बाद बेंगलुरू की टीम अपने सारे मैच जीत जाती है तो दोनों के 14 अंक रह जाएंगे और फैसला नेट रनरेट से होगा. फिलहाल चेन्नई का नेट रन रेट +0.087 है जबकि बेंगलुरू का नेट रनरेट -0.836 है. इन हालातों में बेंगलुरू को जीत की नहीं बल्कि बड़े अंतर से जीत की जरूरत होगी. जिससे वह चेन्नई को नेट रनरेट में पछाड़ सके. इसके अलावा बाकी टीमों का हाल भी बेंगलुरू के अनुकूल होना जरूरी है. 

यह भी पढ़ें: VIDEO: पंत ने आलोचकों को दिया करारा जवाब, नाबाद पारी खेल छक्का लगाकर दिलाई जीत

क्या राजस्थान और बेंगलुरू है एक नाव पर सवार
बिलकुल, दोनों टीमों के छह अंक हैं. नेट रनरेट में राजस्थान की टीम बेंगलुरू से बेहतर है, लेकिन अब उसे भी अपने बचे सारे चार मैच हर हाल में जीतने होंगे. लेकिन अब दोनों में से एक ही टीम प्लेऑफ में पहुंच सकती है, क्योंकि दोनों के बीच अब तीस अप्रैल को मैच होना है ऐसे में हारने वाली टीम प्लेऑफ की दौड़ से अपने आप बाहर हो जाएगी. वहीं दोनों ही टीमों के पक्ष में यही अच्छा होगा कि अब दिल्ली और चेन्नई कोई मैच न जीतें, लेकिन यह संभव नहीं है क्योंकि दोनों को एक मई को चेन्नई में एक मैच खेलना है. यानि राजस्थान और बेंगलुरू का इन दोनों टीमों में से एक से कोई मुकाबला नहीं हैं. 

Point Table

तो क्या है राजस्थान -बेंगलुरू  की असली चुनौती 
राजस्थान और बेंगलुरू की असली चुनौती एक दूसरे के खिलाफ 30 अप्रैल को होने वाला मुकाबला नहीं है. दोनों टीमों के साथ समस्या यह है कि वे अब 14 से ज्यादा अंक हासिल नहीं कर सकतीं लेकिन 14 अंक हासिल कर भी वे प्लेऑफ की दोड़ में बनी रह सकती हैं. अगर बाकी टीमों में से चार टीमें 14 से ज्यादा अंक हासिल करने में कामयाब हो गईं, (जो कि काफी मुमकिन भी है), तो दोनों ही टीमें अपने आप ही प्लेऑफ की दौड़ से बाहर हो जाएंगी. ऐसे में दोनों टीमों की नजर इस बात पर होगी कि कितनी टीमें 14अंक के आंकड़े तक पहुंच पाती हैं.

यह भी पढ़ें: IPL 2019: प्लेऑफ में पहुंचने का गणित हुआ जटिल, बेंगलुरू अंदर तो चेन्नई हो सकती है बाहर

बीच में लटकी टीमों की यह है स्थिति
फिलहाल मुंबई के 10 मैचों में 12 अंक. हैदराबाद के 9 मैचों में 10 अंक हैं वहीं पंजाब और कोलकाता के 10 मैचों में क्रमशः 10 और 8 अंक हैं. फिलहाल 16 अंक हासिल करने वाली टीम प्लेऑफ में पहुंच सकती है. इसके लिए दिल्ली को चार में से दो मैच हैदराबाद को पांच में से तीन मैच और पंजाब के चार में चारों मैच जीतने होंगे. वहीं कोलकता चारों मैच जीतकर भी 14 अंक भी हासिल कर सकती है. अगर ऐसा होता है तो राजस्थान कोलकाता से हार कर बाहर हो चुकी होगी. लेकिन तब कोलकाता का मुकाबला नेट रनरेट के मामले में बेंगलुरू से हो सकता है. लेकिन ये दोनों टीमें अकेली बिलकुल नहीं रहेंगी.

काफी अगर मगर है अभी 
फिलहाल बेंगलुरू और राजस्थान की टीमें तो यही चाहेंगी की कुछ टीमें लगातार मैच हारती रहें. वहीं उनका ध्यान अपनी ही टीम के नेट रनरेट पर ज्यादा हो यह सबसे ज्यादा जरूरी है. जो भी इतना तो तय है कि अगर नेट रन रेट तेजी से नहीं सुधरा तो नेट दोनों ही टीमें सारे मैच जीतकर भी बाहर हो जाएं इतना तय है. राजस्थान की हार ने उसे बेंगलुरू के मुकाबले खड़ा कर दिया है. वहीं कोलकाता का भी यही हाल है. अब दो और टीमें अगर नीचे रहती हैं तो प्लेऑफ की कहानी बहुत ही दिलचस्प होने वाली है.