Year Ender 2019: सिंधु बनीं विश्व चैंपियन, पर ओलंपिक से पहले कमजोर पड़ीं बैडमिंटन में उम्मीदें

Year Ender 2019: भारतीय बैडमिंटन के लिए 2109 ऐतिहासिक और गर्व करने वाला साल रहा, उतना ही निराशाजनक भी रहा.

Year Ender 2019: सिंधु बनीं विश्व चैंपियन, पर ओलंपिक से पहले कमजोर पड़ीं बैडमिंटन में उम्मीदें
पीवी सिंधु ने इस साल विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप जीती. वे यह खिताब जीतने वाली पहली भारतीय बनीं. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारतीय बैडमिंटन के लिए साल 2109 (Year Ender) जितना ऐतिहासिक और गर्व करने वाला साल रहा, उतना ही निराशाजनक भी रहा. भारत को इस साल पीवी सिंधु (PV Sindhu) के रूप में विश्व चैंपियन मिली. सिंधु बैडमिंटन का विश्व खिताब जीतने वाली पहली भारतीय बनीं. इसी साल बी साई प्रणीत ने विश्व चैंपियनशिप में ही ब्रॉन्ज मेडल भी जीता. लेकिन इन दो उपलब्धियों को छोड़ दें तो भारतीय बैडमिंटन (Indian Badminton) के लिए यह साल अच्छा नहीं रहा. साइना नेहवाल (Saina Nehwal), किदांबी श्रीकांत (Kidambi Srikanth) और पारुपल्ली कश्यप (Parupalli Kashyap) जैसे खिलाड़ी कोई बड़ा खिताब नहीं जीत सके. 

साइना नेहवाल (Saina Nehwal) आधुनिक भारतीय बैडमिंटन की पहली महिला सुपरस्टार हैं. हालांकि, अब उनका खेल अवसान पर है. पिछले कुछ समय से उनकी फॉर्म और फिटनेस जवाब दे रहा है. फॉर्म और फिटनेस को फिर से हासिल करने के लिए साइना नेहवाल ने ब्रेक लिया है. हालांकि, उन्होंने साफ कर दिया है कि अगले साल होने वाले ओलंपिक में हिस्सा लेंगी. ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीत चुकीं साइना नेहवाल विश्व चैंपियनशिप में सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल जीत चुकी हैं. 

यह भी पढ़ें: पहलवान गीता फोगाट के घर में आाया नन्हा मेहमान, फेसबुक पर फोटो शेयर कर किया स्वागत

पूर्व नंबर-1 साइना नेहवाल (Saina Nehwal) 2019 में इंडोनेशिया मास्टर्स के रूप में केवल एक खिताब जीतने में सफल हो पाईं. साइना इसके अलावा विश्व चैंपियनशिप से तीसरे दौर और एशियन चैंपियनशिप में क्वार्टर फाइनल से बाहर हो गईं. साइना इसी साल ऑल इंग्लैंड ओपन, सिंगापुर ओपन, फ्रेंच ओपन में क्वार्टर फाइनल और मलेशिया मास्टर्स में सेमीफाइनल से बाहर हो गईं. वे इस साल पांच टूर्नामेंट के पहले दौर में ही हार गईं. 

भारतीय खेलप्रेमी अगले साल होने वाले ओलंपिक में साइना के अलावा पीवी सिंधु (PV Sindhu से मेडल की उम्मीद कर रहा है. लेकिन विश्व चैंपियन बनने के बाद से ही पीवी सिंधु की फॉर्म भी खराब है. रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता सिंधु इस साल ऑल इंग्लैंड और चीन ओपन में पहले दौर में हार गई थीं. वे मलेशिया ओपन, आस्ट्रेलियन ओपन, डेनमार्क ओपन और कोरिया ओपन में दूसरे दौर में और में हार गई थीं. हालांकि, सिंधु इंडोनेशिया ओपन के फाइनल में पहुंचीं. सिंधु इस साल सिंगापुर ओपन में सेमीफाइनल और जापान ओपन व इंडोनेशिया मास्टर्स के क्वार्टर फाइनल में हार गई थीं. 

यह भी पढ़ें: विराट कोहली को विस्डन ने दशक के 5 बेस्ट क्रिकेटर में किया शामिल, ऐसे की तारीफ

साइना नेहवाल (Saina Nehwal) और पीवी सिंधु (PV Sindhu के बाद अब यह सवाल उठने लगा है कि महिला सिंगल्स में कौन इन खिलाड़ियों का स्थान लेगा. अगर रैंकिंग की लिहाज से भी बात करें तो साइना और सिंधु के टॉप-10 के बाद मुग्धा एग्री और ऋतुपर्णा दास ही क्रमश: 62वें और 64वें नंबर पर हैं. उनके अलावा पांच और भारतीय 80 और 90 रैंकिंग के बीच में शामिल हैं. महिलाओं की तुलना में सात पुरुष भारतीय टॉप50 में शामिल हैं. इनमें विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतकर इतिहास रचने वाले बी.साई प्रणीत 11वें और पूर्व वर्ल्ड नंबर वन श्रीकांत 12वें नंबर पर मौजूद हैं। वहीं, कश्यप 23वें नंबर हैं.

प्रकाश पादुकोण बैडमिंटन अकादमी में बतौर सलाहकार कोच के रूप में काम कर रहे डेनमार्क के दिग्गज मोर्टन फ्रॉस्ट मानते हैं कि हाल ही में भारतीय बैडमिंटन में गिरावट आई है. उन्होंने इंग्लैंड और स्वीडन का उदाहरण देते हुए बताया कि पिछले 20-25 साल में वहां पर कैसे खेलों का स्तर काफी नीचे गिरा है. इन देशों को 1970 और 80 के समय में बैडमिंटन का पावर हाउस कहा जाता था. मुख्य कोच पुलेला गोपीचंद से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा,  ‘हमारे पास युवा ग्रुप के लिए कोई कार्यक्रम नहीं था. हमें ज्यादा युवा खिलाड़ी नहीं दिए गए. जूनियर से सीनियर में बदलाव के लिए वास्तव में हमने कुछ नहीं किया.’

ऋतुपर्णा दास और जी रुत्विका शिवानी हालांकि कुछ ऐसी खिलाड़ी हैं, जो अभी उभर कर सामने आ रही हैं. लेकिन उन्होंने विश्व बैडमिंटन महासंघ (बीडब्ल्यूएफ) टूर्नामेंटों में कुछ टूर्नामेंटों के अलावा अपने खेल को आगे नहीं ले जा पाई हैं. दोनों खिलाड़ी इस समय 22 साल की हैं और इस उम्र में तो साइना विश्व जूनियर चैंपियनशिप, कॉमनवेल्थ गेम्स और कई सुपरसीरीज टूर्नामेंटों में स्वर्ण पदक जीत चुकी थीं. साइना ने 23 साल की उम्र में ही ओलंपिक कांस्य पदक जीत लिया था जबकि इसी उम्र में अभी सिंधु भी हैं. सिंधु अभी 24 साल की हैं वह ओलंपिक रजत पदक जीतने के अलावा विश्व चैंपियनशिप में तीन पदक और कई खिताब अपने नाम कर चुकी हैं.
(इनपुट: IANS)