close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन में भारत के योगदान के लिए गुतारेस ने ‘धन्यवाद’ दिया

गुतारेस ने कहा कि वर्तमान में दुनियाभर के विभिन्न शांति मिशनों में भारत के करीब 6,400 शांतिरक्षक तैनात हैं.

संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन में भारत के योगदान के लिए गुतारेस ने ‘धन्यवाद’ दिया
संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा,‘भारत संयुक्त राष्ट्र चार्टर और संयुक्त राष्ट्र के मूल्यों के प्रति समर्पण का उदाहरण है. (फोटो साभार - IANS)

संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने संयुक्त राष्ट्र और उसके शांति मिशनों में योगदान के लिए भारत को ‘धन्यवाद’ देते हुए अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा बनाए रखने में भारतीय महिलाओं की प्रेरक भूमिका को रेखांकित किया.

संयुक्त राष्ट्र शांति रक्षक अंतरराष्ट्रीय दिवस के अवसर पर ‘मिशन के दौरान शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि’ देने के लिए संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई मिशन की ओर से शुक्रवार को आयोजित चाय-पार्टी में गुतारेस ने कहा कि वर्तमान में दुनियाभर के विभिन्न शांति मिशनों में भारत के करीब 6,400 शांतिरक्षक तैनात हैं.

गुतारेस ने कहा,‘संयुक्त राष्ट्र के सभी पहलुओं और खास तौर से शांति मिशनों में भारत के महत्वपूर्ण योगदान के लिए मैं भारत को धन्यवाद देता हूं. मैं संयुक्त राष्ट्र के आदर्शों के लिए जीवन बलिदान करने वाले सभी भारतीय शांतिरक्षकों (महिला एवं पुरूष), विशेष रूप से पुरुषों के साहस की प्रशंसा करता हूं.’ इस कार्यक्रम में संयुक्त राष्ट्र के राजदूत, राजनयिक, शांति मिशनों के पुलिस और सैन्य अधिकारी शामिल हुए.

गुतारेस ने नमस्ते के साथ संबोधन की शुरुआत
‘नमस्ते’ के साथ अपने संबोधन की शुरुआत करते हुए गुतारेस ने कहा,‘भारत संयुक्त राष्ट्र चार्टर और संयुक्त राष्ट्र के मूल्यों के प्रति समर्पण का उदाहरण है.’ उन्होंने अपने संबोधन का अंत ‘धन्यवाद’ देकर किया.

गुतारेस ने भारतीय सेना के अधिकारी लेफ्टिनेंट जनरल शैलेश तिनाइकर (57) को दक्षिण सूडान में संयुक्त राष्ट्र मिशन का नया फोर्स कमांडर बनाया है. तिनाइकर रवांडा के लेफ्टिनेंट जनरल फ्रैंक कमांजी की जगह लेंगे. कमांजी का कार्यकाल 26 मई को समाप्त हो रहा है. गुतारेस ने शुक्रवार को इस बाबत घोषणा की.

भारतीय पुलिस अधिकारी को मरणोपरांत सम्मान
संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने युद्धग्रस्त कांगो लोकतांत्रिक गणतंत्र में विश्व संगठन के शांतिरक्षा मिशन के दौरान अपना जीवन बलिदान करने वाले एक भारतीय पुलिस अधिकारी को प्रतिष्ठित पद से सम्मानित किया है.

संयुक्त राष्ट्र शांति सेना के अंतरराष्ट्रीय दिवस और मिशन में अपनी सेवा के बाद ‘वापस नहीं लौटने वाले को श्रद्धांजलि’ देने के लिए भारत के स्थायी मिशन द्वारा आयोजित विशेष चाय कार्यक्रम के दौरान संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में शुक्रवार को जितेन्द्र कुमार को मरणोपरांत डेग हम्मरस्कॉल्ड पदक से सम्मानित किया गया.

कुमार, उन 119 पुरुषों और महिलाओं में से एक थे जिन्होंने अपना कर्तव्य निभाने के दौरान साहस दिखाते हुए अपने जीवन का बलिदान दिया. उन्होंने मध्य अफ्रीकी देश में संयुक्त राष्ट्र संगठन स्थिरीकरण मिशन में सेवा के दौरान यह बलिदान किया. संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत सैयद अकबरूद्दीन ने कुमार की तरफ से यह सम्मान प्राप्त किया.