भारतीय मूल की नेओमी जहांगीर का अमेरिका में बजा डंका, मिला ये बड़ा पद

अमेरिका सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश क्लेरेंस थॉमस ने मंगलवार को व्हाइट हाउस के रूजवेल्ट रूम में राव को शपथ दिलाई. उन्होंने बाइबिल की शपथ ली.

भारतीय मूल की नेओमी जहांगीर का अमेरिका में बजा डंका, मिला ये बड़ा पद
प्रख्यात अमेरिकी वकील नेओमी जहांगीर राव.

वाशिंगटन: भारतीय मूल की प्रख्यात अमेरिकी वकील नेओमी जहांगीर राव (45) ने ‘डिस्ट्रिक ऑफ कोलंबिया सर्किट कोर्ट ऑफ अपील्स’ के अमेरिकी सर्किट जज के रूप में शपथ ग्रहण की है. उन्होंने विवादों से घिरे ब्रेड कावानॉ का स्थान लिया है. शपथ ग्रहण के दौरान उनके पति अलान लेफेकोविट्ज भी मौजूद थे. अमेरिका सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश क्लेरेंस थॉमस ने मंगलवार को व्हाइट हाउस के रूजवेल्ट रूम में राव को शपथ दिलाई. उन्होंने बाइबिल की शपथ ली.

व्हाइट हाउस के एक कार्यक्रम के मुताबिक, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुये. भारत के पारसी डॉक्टर जेरीन राव और जहांगीर नरिओशांग राव के घर डेट्रायट में जन्मी नेओमी राव, श्री श्रीनिवासन के बाद दूसरी भारतीय अमेरिकी हैं जो शक्तिशाली अदालत का हिस्सा बनी हैं. माना जाता है कि इस अदालत से अधिक शक्तिशाली केवल अमेरिकी सर्वोच्च न्यायालय है.

रेप पर नेओमी के कमेंट पर उठे थे सवाल
मालूम हो कि नेओमी जहांगीर राव के जज के रूप में नियुक्ति से पहले रेप पर उनकी ओर से दिए गए बयान पर सवाल उठे थे. सीनेट की न्यायपालिका समिति ने मंगलवार को नेओमी राव के नियुक्ति पर विचार करने के लिए बैठक की थी और इस दौरान नेओमी को डेमोक्रेट्स के तीखे सवालों का सामना करना पड़ा था. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश ब्रेट कैवनॉग के स्थान पर नेओमी राव को नियुक्त किया है. वह दुष्कर्म पर दिए अपने बयानों को लेकर विवादों में रही हैं.

भारतीय मूल की अमेरिकी महिला नेओमी से डेमोक्रेट्स ने न केवल ट्रंप प्रशासन में उनके काम को लेकर, बल्कि दशकों पहले येल विश्वविद्यालय की छात्रा के रूप में महिलाओं पर डेट रेप से बचने के लिए अपना व्यवहार बदलने संबंधित टिप्पणी को लेकर भी तीखे सवाल पूछे.

मंच पर जब अधिकांश डेमोक्रेट सीनेटर ने उनके शुरुआती लेखों का जिक्र किया तो राव ने अपना पक्ष रखते हुए सीनेटरों से कहा, 'मुझे अपनी भाषा पर शर्मिंदगी है.' उन्होंने कहा कि यह सब दो दशक पहले हुआ है, जब वह कॉलेज में थीं.

येल हेराल्ड में 1994 में प्रकाशित एक लेख शेड्स ऑफ ग्रे में नेओमी ने कैंपस में एक कथित दुष्कर्म की घटना का जिक्र किया था, जिसमें उन्होंने कहा था, 'मेरा मानना है कि भले ही मैंने बहुत शराब पी रखी हो, लेकिन मैं अपने कार्यो के लिए जिम्मेदार रहूंगी.'

उन्होंने कहा था, 'एक लड़की जो शराब के नशे में हो, उसके साथ दुष्कर्म करने वाले पुरुष पर कार्रवाई होनी चाहिए. लेकिन इसी दौरान लड़की को भी ऐसी घटना से बचने के लिए खुद पर काबू रखना चाहिए.'

इस टिप्पणी पर स्पष्टीकरण देते हुए नेओमी ने कहा था कि जब वह इस घटना के बारे में लिख रही थीं तो उन्होंने जोर देकर कहा था कि दुष्कर्म एक अपराध है और किसी को भी इसके लिए 'पीड़िता को दोष नहीं देना चाहिए'. लेकिन उन्होंने सामान्य ज्ञान के आधार पर कहा था कि एक महिला की सक्रियता उसे ऐसी घटनाओं से बचा सकती है. नेओमी ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि वह एक लेखिका और एक व्यक्ति के रूप में 'परिपक्व' हुई हैं.