close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

यूक्रेन का राष्ट्रपति चुनाव, जानिए कौन हैं प्रमुख उम्मीदवार और क्या हैं खास मुद्दे

यूक्रेन के राष्ट्रपति चुनावों में कमेडियन वोलोदमिर जेलेन्स्की के आगे रहने की संभावना है. 

यूक्रेन का राष्ट्रपति चुनाव, जानिए कौन हैं प्रमुख उम्मीदवार और क्या हैं खास मुद्दे
यूक्रेन के कॉमेडिन वोलोदमिर जेलेन्स्की भी राष्टपति पद की दौड़ में हैं. (फोटो: Reuters)

नई दिल्ली: यूक्रेन में राष्ट्रपति का चुनाव हो रहा है. रविवार को देश की जनता अपने नए राष्ट्रपति को चुनने के लिए मतदान कर रही है. 2014 में बड़े सत्ता परिवर्तन और फिर रूस द्वारा क्रीमिया पर कब्जा करने के बाद यूक्रेन में ये पहले चुनाव हैं. प्रमुख चुनावी मुद्दों में भ्रष्टाचार, विकास की धीमी गति, सबसे ज्यादा सुर्खियों में है. फिलहाल यूक्रेन के राष्ट्रपति चुनाव में 38 उम्मीदवारों में से तीन उम्मीदवार प्रमुख हैं. मतगणना सोमवार को होगी. अगर किसी भी उम्मीदवार को 50% से ज्यादा वोट न मिले तो दो शीर्ष उम्मीदवारों के बीच मुकाबला आगामी 21 अप्रैल का होगा. 

वोलोदमिर जेलेन्स्की- राष्ट्रपति की दौड़ में कमेडियन
41 साल के कॉमे़डियन-एक्टर भी राष्ट्रपति पद की दौड़ में गंभीरता से शामिल हैं और अनुमानों के मुताबिक वे इस दौड़ में सबसे आगे हैं.  उनका एक वीडियो वायरल हो गया था जिसमें उन्होंने एक स्कूलमास्टर की भूमिका निभाई थी जो कि बाद में भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़कर राष्ट्रपति बन जाता है. उनकी टीवी सीरीज ‘सर्वेंट ऑफ पीपुल’ के नाम पर ही पार्टी का नाम हो गया. वे अपनी छवि के मुताबिक ही भ्रष्टाचार के खिलाफ अपना प्रचार कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: यूक्रेन: यूरोपीय संघ और रूस के बीच एक देश

पीटर पोरोशेंको: यूक्रेन की राजनीति में बड़ा नाम
राष्ट्रपति चुनाव में एक उम्मीदवार 53 साल के वर्तमान राष्ट्रपति पीटर पोरोशेंको भी हैं जो कुलीन वर्ग से आए माने जाते हैं. 2014 में उनके सत्ता में आने के समय उनसे लोगों को काफी उम्मीदें थी, लेकिन अपने चॉकलेट व्यवसाय के कारण चॉकलेट किंग कहे जाने वाले पोरोशेंको आलोचकों के तीखे निशाने पर हैं. बढ़ते भ्रष्टाचार पर लगाम कसने में नाकामी, आर्थिक मोर्चों पर जनता में गहरा असंतोष, रूस समर्थित अलगाववादियों से युद्ध में निपटने में नाकामी जैसे कई मुद्दे पोरोशेंको की छवि को नुकसान पहुंचा रहे हैं. पोरोशेंको के नाम यूरोपीय संघ से जुड़ने, रूस का देश में प्रभाव कम करने, परंपरागत चर्च को रूसी चर्च से मुक्त करने जैसी उपलब्धियां भी हैं.

Petro poroshenko

यूलिया टेमेशेंको
58 वर्षीय यूलिया टेमेशेंको तीसरी बार राष्ट्रपति चुनाव की दौड़ में हैं. रूसी गैस आयात करने वाली एक कंपनी की प्रमुख रहीं यूलिया ने देश के मतदाताओं को गैस की कीमतें आधी करने का वादा किया है. इसके अलावा उन्होंने राष्ट्रपति, न्यायपालिका और विधायिका की संवैधानिक शक्तियां भी कम करने का वादा किया है. पूर्व राष्ट्रपति यानुकोविच के साथ काम कर चुकीं यूलिया उनके साथ हो चुके विवाद के लिए भी काफी चर्चा में रही. 2011 में गिरफ्तार हो चुकीं यूलिया, 2014 में राष्ट्रपति चुनाव नहीं जीत सकीं. अब वे फिर से मैदान में हैं.