नहीं रहे पेजावर मठ के विश्वेश तीर्थ स्वामी, पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने जताया शोक

पेजावर मठ के प्रमुख विश्वेश तीर्थ स्वामी जी का 88 वर्ष की आयु में रविवार सुबह उडुपी स्थित श्रीकृष्ण मठ में निधन हो गया. उनके निधन पर पीएम मोदी और अमित शाह समेत कई बड़े नेताओं ने शोक व्यक्त किया है.  

नहीं रहे पेजावर मठ के विश्वेश तीर्थ स्वामी, पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने जताया शोक

बेंगलूरू: पेजावर मठ के प्रमुख विश्वेश तीर्थ स्वामी का रविवार को निधन हो गया है. उनकी हालत पिछले कई दिनों से गंभीर बनी हुई थी. हालात बिगड़ने के बाद उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर भी रखा गया था लेक्न रविवार सुबह उनका निधन हो गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने विश्वेश तीर्थ स्वामी के निधन पर शोक जताया है.

बहुत कुछ सीखने को मिला: पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विश्वेश तीर्थ स्वामी के निधन पर शोक जताया. पीएम मोदी ने कहा, 'मैं खुद को धन्य मानता हूं कि मुझे विश्वेश तीर्थ स्वामीजी से सीखने के कई अवसर मिले. हाल ही में गुरु पूर्णिमा के पावन दिन की बैठक भी यादगार रही. उनका ज्ञान हमेशा बना रहा. मेरे विचार उनके अनगिनत अनुयायियों के साथ हैं.'

3 बजे महात्मा गांधी मैदान में रखा जाएगा पार्थिव शरीर

उडुपी के विधायक के रघुपति भट ने भी दुख जताते हुए कहा कि पीजवारा मठ के सीर विश्वेश्वर तीर्थ स्वामी जी का आज सुबह 9:30 बजे निधन हो गया. उनके पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए आज अजराकाडू महात्मा गांधी मैदान में 3 तीन घंटे तक के लिए रखा जाएगा, जहां उन्हें सम्मानित किया जाएगा.

अमित शाह और येदियुरप्पा ने जताया शोक

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा और गृहमंत्री अमित शाह ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है. येदियुरप्पा ने कहा कि भगवान कृष्ण उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें. मैं भक्तों के लिए भी प्रार्थना करूंगा कि भगवान उन्हें इस दर्द को दूर करने की शक्ति दें. अमित शाह ने एक ट्वीट में कहा कि   पेजावर मठ के श्री श्री विश्वेश्वर तीर्थ स्वामी जी के निधन की खबर सुनकर गहरी पीड़ा हुई. वह मानवता, दया और ज्ञान का प्रतीक थे. लोगों और समाज के कल्याण के प्रति उनके निस्वार्थ योगदान का कोई समानता नहीं है.

उमा भारती ने ली थी दीक्षा

आपको बता दें कि वरिष्ठ बीजेपी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती स्वामी जी की शिष्या हैं. उन्होंने इससे पहले कहा था कि वह अपने गुरु के ठीक होने के लिए प्रार्थना कर रही हैं. उमा भारती ने उन्हें समाज के सभी वर्गों के लोगों के श्रद्धेय और दुर्लभतम संत बताया. उमा भारती ने कहा, ‘‘मेरे लिए वह न केवल गुरु हैं बल्कि पिता की तरह हैं.

ये भी पढ़ें- धर्मेंद्र प्रधान बोले- हिंदुस्तान में 'भारत माता की जय' कहने वाले लोग ही रहेंगे