501 कुंवारी कन्याओं ने निकाली कलश यात्रा, गूंज उठा जय माता दी
topStories0hindi1002448

501 कुंवारी कन्याओं ने निकाली कलश यात्रा, गूंज उठा जय माता दी

Navratra Durga Puja: इंडो नेपाल बॉर्डर पर सिकटा मैनाटांड के पिड़ारी, इनरवा, बास्ठा, मर्जदवा, बिरंची, धोकराहा, रामपुर बेलवाडीह माई स्थान, पुरुषोत्तमपुर समेत बेतिया मझौलिया में भी मां भगवती की पूजा अर्चना शुरू हो गई है. 

 

501 कुंवारी कन्याओं ने निकाली कलश यात्रा, गूंज उठा जय माता दी

चंपारणः Navratra Durga Puja: शारदीय नवरात्र की शुरुआत में श्रद्धा के साथ कलश स्थापना कर पश्चिम चंपारण जिला के विभिन्न स्थानों पर वैदिक मंत्रोच्चारण से मां भगवती के मंदिर समेत पूरा इलाका गूंज उठा है. भारत नेपाल सीमा पर स्थित जिले के सिकटा मैनाटांड समेत मझौलिया के रुलही वीश्वम्भरा गांव में भी धूमधाम से 501 कुंवारी कन्याओं के जत्था ने जलभर कलश यात्रा निकाली जिसके बाद वैदिक मंत्रोच्चारण कर देवी के जयघोष के साथ ही गुरुवार से शारदीय नवरात्र श्रद्धा भक्ति से शुरू हो गया है.

भारत-नेपाल बॉर्डर पर गूंजा जय माता दी
इंडो नेपाल बॉर्डर पर सिकटा मैनाटांड के पिड़ारी, इनरवा, बास्ठा, मर्जदवा, बिरंची, धोकराहा, रामपुर बेलवाडीह माई स्थान, पुरुषोत्तमपुर समेत बेतिया मझौलिया में भी मां भगवती की पूजा अर्चना शुरू हो गई है. दरअसल शारदीय नवरात्र में आज पहले दिन माता दुर्गा के प्रथम रूप शैलपुत्री की पूजा के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी है. भक्तगण धूप, अगरबत्ती, फूल, अक्षत, चंदन, नारियल, चुनरी, फल आदि पूजा सामग्री लेकर मां के दरबार में पहुंच रहे हैं.

ये भी पढ़ें-चित्रा नक्षत्र में हो रही दुर्गा पूजा की शुरुआत, ये छह राशियां बन जाएंगी धनवान

मां प्रदान करती हैं सुख और समृद्धि
अपनी मनोकामना और मन्नतों की पूर्ति के लिए मां के चरणों में माथा टेका जा रहा है. आचार्य सुनील मिश्रा ने कहा कि नवरात्रि में श्रद्धापूर्वक आराधना करने से मां दुर्गा प्रसन्न होकर सुख शांति और समृद्धि प्रदान करती हैं. उन्होंने कहा कि जहां नारी की पूजा होती है वहां देवता निवास करते हैं. बुजुर्ग पुजारी नारायण दास और पुरोहित राजेश पांडेय के मुताबिक यहां 17 वीं सदी से राजाओं के जमाने से ही मंदिर का निर्माण कराया गया है जहां भक्तगण सदियों से मां शारदे की पूजा-अर्चना करते चले आ रहे हैं. इस वर्ष भी कोरोना काल के बाद यहां भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी है और लोग इस महामारी से निजात दिलाने की कामना करते दिख रहे हैं.

नारी सम्मान का प्रतीक है दुर्गा पूजा
दुर्गापूजा विशुद्ध रूप से नारी सम्मान का प्रतीक है. जय माता दी का उद्घोष हमारे महान भारतिय सभ्यता और संस्कृति को दर्शाता है. वहीं कोविड-19 के मद्देनजर गृह विभाग के द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का अनुपालन करने के लिए सीओ कुमार राजीव रंजन, मैनाटांड़ थानाध्यक्ष धनंजय कुमार सहित पांचों थाना के थानाध्यक्ष पुलिस बल के साथ सक्रिय हैं. शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए डीएम कुंदन कुमार और SP उपेन्द्र नाथ वर्मा भी सभी थाना क्षेत्र में सीओ और थानेदारों के साथ मीटिंग की है और उन्हें दिशा-निर्देश दिए हैं.

(इनपुट-इमरान अज़ीज)

Trending news