close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: बीजेपी ने वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कांग्रेस विरोध में किया प्रदर्शन

इस मौके पर मंत्री देवनानी ने कहा कि कांग्रेस ने घोषणा के वक्त यह नहीं बताया कि मोदी सरकार पैसा देगी तो कर्जा माफ होगा

राजस्थान: बीजेपी ने वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कांग्रेस विरोध में किया प्रदर्शन
राजस्थान विधानसभा में बीजेपी ने किसानों की कर्ज माफी का मुद्दा उठाया था

अजमेर: भारतीय जनता पार्टी की ओर से आज प्रदेशभर में कांग्रेस की वादाखिलाफी के विरोध में प्रदर्शन किया जा रहा है इसी के तहत अजमेर शहर बीजेपी ने डाक बंगले कलेक्ट्रेट तक विरोध मार्च निकाला. कांग्रेस को घोषणा के अनुरूप किसानों का संपूर्ण कर्जा माफ करने की मांग की साथ ही युवाओं को साढ़े तीन हजार रुपए भत्ता और स्वर्ण आरक्षण को राजस्थान में जल्दी लागू करने की मांग को लेकर जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा है. 

इस दौरान निकाली गई रैली में पूर्व मंत्री व विधायक वासुदेव देवनानी अनिता भदेल सहित शहर बीजेपी अध्यक्ष, बीजेपी पदाधिकारी अग्रिम संगठनों के पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे. जिन्होंने कांग्रेस सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए वादाखिलाफी का आरोप लगाया है. मंत्री अनिता भदेल ने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा जनता के साथ खिलवाड़ किया है और इस बार उन्होंने झूठी घोषणाएं कर लोगों को लुभा कर सत्ता हथिया ली है लेकिन बीजेपी इस सरकार को चैन से नहीं बैठने देगी. 

इस मौके पर मंत्री देवनानी ने कहा कि कांग्रेस ने घोषणा के वक्त यह नहीं बताया कि मोदी सरकार पैसा देगी तो कर्जा माफ होगा. अब मुख्यमंत्री केंद्र से पैसा मांग रहे हैं. ऐसे में कांग्रेस ने किसानों को गुमराह कर सरकार बना ली लेकिन आने वाले लोकसभा चुनाव में राजस्थान की जनता कांग्रेस को माफ नहीं करेगी. इस वादाखिलाफी का जवाब लोकसभा चुनाव में मिलेगा. इसी मांग को लेकर बीजेपी लगातार आंदोलन जारी रखेगी और आगामी 8 फरवरी को जेल भरो आंदोलन किया जाएगा.

बता दें कि राजस्थान विधानसभा में बीजेपी ने किसानों की कर्ज माफी का मुद्दा उठाया था. प्रश्नकाल के दौरान पहले विपक्ष की तरफ से हमीर सिंह भायल और फिर किरण माहेश्वी ने कर्ज माफी पर सवाल पूछे गए थे. इस दौरान सरकार पर आरोप लगाते हुए विपक्ष ने कहा कि सरकार ने अब तक न तो किसानों की कर्ज माफी की पात्रता तय की और न ही ऋण माफी पत्र बांटने का काम शुरू किया. इस दौरान सरकार के जवाब से असंतुष्ट विपक्ष ने सदन के वेल में आकर नारेबाजी की और बाद में सदन की कार्यवाही से वॉकआउट कर दिया था. 

बीजेपी ने कांग्रेस पर आरप लगाते हुए यह कहा था कि चुनाव से पहले कांग्रेस ने प्रदेश के किसानों से कर्ज माफी का वादा किया था. कांग्रेस के चुनाव घोषणा पत्र और चुनावी सभाओं में राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ ही दूसरे नेताओं ने किसानों का कर्जा माफ करने का वादा किया था. वहीं कांग्रेस के कई नेताओं ने तो सत्ता में आते ही दस दिन में कर्ज माफी का वादा किया लेकिन अब यही वादा सरकार को घेरने का आधार बन रहा है. नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया सरकार से बार बार यही सवाल कर  रहे हैं कि सरकार के दस दिन पूरे हुए या नहीं और नहीं हुए तो वो 10 दिन कब पूरे होंगे?