close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

BJP जनता को बताए कि EVM के बिना चुनाव क्यों नहीं करवाना चाहती : AAP

आप ने ईवीएम की विश्वसनीयता पर उठते सवालों के बीच मंगलवार को कहा, ‘केवल बीजेपी को छोड़कर देश की लगभग सभी पार्टियों का मानना है कि ईवीएम में गड़बड़ी होती है.

BJP जनता को बताए कि EVM के बिना चुनाव क्यों नहीं करवाना चाहती : AAP
आप के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: आप ने ईवीएम में छेड़छाड़ के मामले में बीजेपी को छोड़कर अन्य सभी पार्टियों के मन में संदेह के आधार पर कहा है कि बीजेपी को यह बताना चाहिये कि वह ईवीएम के बिना चुनाव क्यों नहीं करवाना चाहती है. 

आप के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने ईवीएम की विश्वसनीयता पर उठते सवालों के बीच मंगलवार को कहा, ‘केवल बीजेपी को छोड़कर देश की लगभग सभी पार्टियों का मानना है कि ईवीएम में गड़बड़ी होती है और इन दलों का मानना है कि देश में होने वाले सभी चुनाव या तो ईवीएम के बिना हों, या फिर शत प्रतिशत वीवीपीएट मशीन युक्त ईवीएम के साथ किया जाना चाहिए. जिससे चुनाव की निष्पक्षता बनी रहे.’

भारद्वाज ने सोमवार को एक स्वयंभू विशेषज्ञ द्वारा ईवीएम को हैक किये जा सकने के दावे के हवाले से कहा कि इससे आप के भी इस पुराने आरोप की पुष्टि हुई है. उन्होंने कहा, ‘देश की सभी पार्टियां चाहती हैं कि चुनाव में ईवीएम का इस्तेमाल बंद किया जाए, तो बीजेपी को इस मांग से क्यों गुरेज़ है, उसे यह स्पष्ट करना चाहिए.’

अगर EVM ठीक है तो जापान जैसे विकसित देश इस्तेमाल क्यों नहीं करते :अखिलेश
2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में गड़बड़ी के दावों के बीच समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने मंगलवार को कहा कि 'अगर सब कुछ ठीक है तो जापान जैसे विज्ञान और तकनीकी रूप से विकसित देश मशीन का इस्तेमाल क्यों नहीं करते . जरूरी है कि देश के लोकतंत्र पर जनता का भरोसा हो .' अखिलेश ने बीजेपी पर आरोप लगाया कि वह लोकतांत्रिक संस्थानों को कमजोर कर रही है . उन्होंने कहा कि विपक्ष की आवाज को दबाने के लिये ऐसा किया जा रहा है.

अगले आम चुनाव मतपत्रों से ही कराये जाएं : मायावती
वहीं बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने ईवीएम को हैक किये जाने के एक साइबर विशेषज्ञ के दावे का हवाला देते हुये चुनाव आयोग से अगला लोकसभा चुनाव मतपत्र से ही कराये जाने की मांग की है. 

मंगलवार को जारी बयान में मायावती ने कहा ‘‘लंदन में एक साइबर विशेषज्ञ द्वारा यह दावा करना कि 2014 में लोकसभा चुनाव के अलावा उत्तर प्रदेश, गुजरात आदि राज्यों के पिछले विधानसभा चुनावों में ईवीएम के जरिये जबरदस्त धांधली की गई थी, ईवीएम धांधली पर जारी विवाद को और भी ज्यादा गंभीर बनाता है.’’ 
उन्होंने लोकतंत्र के व्यापक हित में ईवीएम विवाद पर तत्काल समुचित ध्यान देने की जरूरत व्यक्त करते हुये कहा कि वोट हमारा राज तुम्हारा, नहीं चलेगा, इसलिये जनता की इस आशंका का समय पर संतोषजनक समाधान होना जरूरी है. 

मायावती ने सुझाव दिया कि निष्पक्ष और स्वतंत्र चुनाव सुनिश्चित करने के लिये मतपत्रों के द्वारा मतों के सत्यापन की बेहतर व्यवस्था संभव है, जबकि ई.वी.एम. के सत्यापन की ऐसी कोई पुख्ता व्यवस्था नहीं है. इसके मद्देनजर उन्होंने चुनाव आयोग से ईवीएम के ताजा विवाद पर संज्ञान लेते हुये देश में अगला लोकसभा चुनाव मतपत्रों से ही कराये जाने की मांग की. 

(इनपुट - भाषा)