देश के बेरोजगार लोगों को 'चौकीदार' नहीं, स्थाई रोजगार चाहिए : अखिलेश

अखिलेश ने ट्वीट किया  कि भाजपा अपनी रैलियों में केवल विपक्ष की ही बातें क्यों कर रही है? क्या भाजपा के पांच साल के शासनकाल में उनकी अपनी कोई भी सकारात्मक उपलब्धि नहीं है?

देश के बेरोजगार लोगों को 'चौकीदार' नहीं, स्थाई रोजगार चाहिए : अखिलेश
अखिलेश ने कहा कि भाजपा को चुनावी रैलियों में जनता को यह बताना चाहिए कि इन पांच सालों में उन्होंने जनता के लिए कौन कौन से सकारात्मक कदम उठाए. (फाइल फोटो)

लखनऊः समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा पर अपनी नाकामियों से भागने के लिए विपक्ष की ही बातें करने का आरोप लगाते हुए सोमवार को कहा कि शिक्षामित्रों, शिक्षा प्रेरकों और टीईटी धारकों को 'चौकीदार' नहीं बल्कि स्थाई रोजगार चाहिए. अखिलेश ने ट्वीट किया 'विकास पूछा रहा है. भाजपा अपनी रैलियों में केवल विपक्ष की ही बातें क्यों कर रही है? क्या भाजपा के पांच साल के शासनकाल में उनकी अपनी कोई भी सकारात्मक उपलब्धि नहीं है?'

यूपी के मंत्री ने प्रियंका गांधी को बताया साइबेरियन पक्षी, कहा- 'बाबर का निशान ढूंढने जा रहीं अयोध्या'

उन्होंने कहा 'जनता के आक्रोश और हार के डर से भाजपा के नेता और कार्यकर्ता गर्मी का बहाना करके चुनाव प्रचार से बच रहे हैं.' सपा प्रमुख ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि उत्तर प्रदेश के शिक्षामित्रों, बीपीएड एवं टीईटी डिग्रीधारकों, शिक्षा प्रेरकों, ग्राम रोजगार सेवकों, आंगनबाड़ी सहायिकाओं, आशा बहुओं, रसोइयों और अनुदेशकों को स्थाई रोजगार चाहिए, ना कि चौकीदार. अखिलेश ने कहा कि भाजपा को चुनावी रैलियों में जनता को यह बताना चाहिए कि इन पांच सालों में उन्होंने जनता के लिए कौन कौन से सकारात्मक कदम उठाए.  उन्होंने कहा कि भाजपा का हर एक कार्यकर्ता केवल विपक्ष की ही बात करता है.

Lok sabha elections 2019 : संजय निरुपम ने मंच से कहा- 'चुनाव में कार्यकर्ताओं को थोड़े-थोड़े पैसे दो...' 

अखिलेश ने अपने ट्विट में कहा कि भाजपा के शासनकाल में युवाओं को रोजगार से हांथ धोना पड़ा है. उन्होंने कहा कि भाजपा अपनी रैलियों में रोजगार की बात क्यूं नहीं करती. अखिलेश का कहना है कि भाजपा अपनी कमियों से बचने के लिए तरह तरह के बहाने करती है और हर रैली में अपनी बातों को छुपाकर सिर्फ विपक्ष की बातें करता है. उन्होंने कहा कि यह एक ऐसा वक्त है जहां सत्तारूढ़ पार्टी को अपनी सकारात्मक उपलब्धियां बतानी चाहिए न कि विपक्ष के कार्य.

(इनपुट भाषा)