close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

GYM में प्रोटीन फूड सप्लीमेंट के नाम पर दिया जा रहा है 'ड्रग्स', स्टडी में हुआ खुलासा

जिम जाने वाले लोग फूड सप्लीमेंट इसलिए लेते हैं ताकि वह अपना शरीर बेहतर कर सकें और इसके लिए वह जिम मालिक या ट्रेनर से सलाह लेते हैं लेकिन यही लोग इन्हें अच्छे फूड सप्लीमेंट की जगह स्ट्राइड या प्रतिबंधित ड्रग्स देते हैं.

GYM में प्रोटीन फूड सप्लीमेंट के नाम पर दिया जा रहा है 'ड्रग्स', स्टडी में हुआ खुलासा
सांकेतिक तस्वीर

नई दिल्ली : अपना शरीर बेहतर करने के लिए जिम जाने वाले लोगों को जिम मालिक अच्छे फूड सप्लीमेंट की जगह स्ट्राइड और प्रतिबंधित ड्रग्स मुहैया करा रहे हैं. जिम जाने वाले लोग फूड सप्लीमेंट इसलिए लेते हैं ताकि वह अपना शरीर बेहतर कर सकें और इसके लिए वह जिम मालिक या ट्रेनर से सलाह लेते हैं लेकिन यही लोग इन्हें अच्छे फूड सप्लीमेंट की जगह स्ट्राइड या प्रतिबंधित ड्रग्स देते हैं जिससे शरीर और मानसिक स्थिति पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. 

बढ़ सकता है हार्ट अटैक का खतरा
इस तरह के स्ट्राइड से हार्ट अटैक का भी खतरा होता है. लखनऊ स्थिति स्पोटर्स मेडिसन विशेषज्ञ डॉक्टर सरणजीत सिंह ने कहा, "इनमें से 90 फीसदी स्ट्राइड एनाबोलिक होते हैं, जो स्थानीय जिम में आसानी से उपलब्ध होते हैं और उन्हें बिना डॉक्टर की सलाह के दिए जाता है."

VIDEO: बेजोड़ है यह सेल्समैन, देखिए कैसे नेता-चुनावों का विश्लेषण करते हुए बेचता है सामान

लत के कारण लोग कर लेते हैं हत्या
उन्होंने कहा, "यह स्ट्राइड स्थानीय और सस्ते फूड सप्लीमेंट से बनता है और युवा इसे प्रोटीन की भरपाई के लिए उपयोग में लेते हैं. इससे युवा पागल या इन ड्रग्स के आदि बन जाते हैं." उत्तर प्रदेश बॉडी बिल्डिंग संघ के उपाध्यक्ष सिंह ने कहा, "इन स्ट्राइड का आदि होना काफी खतरनाक होता है. दो-तीन मामलों में ऐसा भी देखा गया कि स्ट्राइड की लत होने के कारण कुछ लोगों ने आत्महत्या भी कर ली है."

VIDEO : डिप्लोमा मिलने की इतनी खुशी की लाइन में स्टंट करने लगा छात्र, और...

हाईकोर्ट ने दी जिम ट्रेनरों को चेतावनी
हाल ही में पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय ने फूड सप्लीमेंट मुहैया करने वाले जिमों को चेतावनी दी है. अदालत में लुधियाना के रहने वाले रवि कुमार ने याचिका दाखिल की थी कि उनका 12वीं में पढ़ने वाला बच्चा जिम द्वारा सुझाए गए फूड सप्लीमेंट का आदि बन गया है.