लोकसभा चुनाव 2019: मंडला में फग्गन सिंह कुलस्ते के भरोसे है BJP की नैया, क्या इस बार भी लगाएंगे पार

जब से भाजपा ने फग्गन सिंह कुलस्ते को मंडला की कमान सौंपी उन्होंने अपनी जिम्मदारियों को बखूबी निभाया और बड़े मतों के अंतर से जीत भी दर्ज कराई, लेकिन हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों के बाद इस बार जनता का मूड कुछ बदला हुआ नजर आ रहा है.

लोकसभा चुनाव 2019: मंडला में फग्गन सिंह कुलस्ते के भरोसे है BJP की नैया, क्या इस बार भी लगाएंगे पार
(फोटो साभारः facebook)

नई दिल्लीः एसटी वर्ग के लिए आरक्षित मध्य प्रदेश की मंडला लोकसभा सीट पर कभी कांग्रेस का राज हुआ करता था, लेकिन बीते कुछ चुनावों से यह भारतीय जनता पार्टी का गढ़ बनती जा रही है. इसकी एक वजह पूर्व केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते को भी माना जा रहा है. दरअसल, मंडला सीट पर कभी कांग्रेस का दबदबा हुआ करता था, लेकिन जब से भाजपा ने फग्गन सिंह कुलस्ते को मंडला की कमान सौंपी उन्होंने अपनी जिम्मदारियों को बखूबी निभाया और बड़े मतों के अंतर से जीत भी दर्ज कराई, लेकिन हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों के बाद इस बार जनता का मूड कुछ बदला हुआ नजर आ रहा है.

राजनीतिक इतिहास
मंडला में पहली बार 1957 में चुनाव हुए. पिछले 62 सालों में इस सीट पर 8 बार कांग्रेस तो 5 बार भाजपा ने जीत दर्ज कराई. वहीं एक बार लोकतांत्रिक दल ने भी यहां जीत हासिल की. मंडला में 1957 में जीत हासिल करने के बाद कांग्रेस के मंगरुबाबू उईके ने 1962, 1967 और 1971 तक लगातार जीत का सिलसिला जारी रखा, लेकिन 1977 में कांग्रेस को यहां हार का सामना करना पड़ा और भारतीय लोकदल ने यहां जीत हासिल की. 1980 में फिर कांग्रेस ने यहां वापसी की और 1991 तक लगातार दमदार जीत दर्ज कराती गई.

मंदसौर लोकसभा सीट: BJP के किले पर मजबूत हुई कांग्रेस की पकड़, कहीं बदल न जाए चुनावी समीकरण

1996 से लेकर 2004 तक यहां भाजपा प्रत्याशी फग्गन सिंह कुलस्ते ने जीत दर्ज कराई, लेकिन 2009 में फिर यहां कांग्रेस ने जीत हासिल की. 2014 में मोदी लहर और भाजपा के कांग्रेस के 15 साल के राज को खत्म करने वाले नारे की क्रांति का असर यहां भी देखने को मिला और एक बार फिर यहां भाजपा प्रत्याशी फग्गन सिंह कुलस्ते ने जीत दर्ज कराई.

2014 का चुनावी समीकरण
बात करें 2014 के चुनावी समीकरण की तो मंडला लोकसभा सीट पर भारतीय जनता पार्टी के नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री ने यहां जीत दर्ज कराई. वहीं कांग्रेस के ओमकार सिंह यहां दूसरे नंबर पर रहे. फग्गन सिंह कुलस्ते को 2014 के लोकसभा चुनाव में 5,85,720 वोट मिले थे, जबकि उनकी तुलना में ओमकार सिंह को 4,75,521 वोट ही मिल सके. जिसके दम पर फग्गन सिंह कुलस्ते ने 1,10,199 वोटों के अंतर से जीत हासिल की.

ई-टेंडरिंग घोटाले की जांच पर बोले CM कमलनाथ- हम सच्चाई सामने ला रहे हैं तो हंगामा क्यों हो रहा है?

सांसद का रिपोर्ट कार्ड
सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते को उनके निर्वाचन क्षेत्र के विकास कार्यों के लिए 17.5 करोड़ की राशि आवंटित हुई, जिसमें से उन्होंने 16.11 करोड़ क्षेत्र के विकास कार्यों में खर्च कर दिए, जबकि बाकि की राशि बिना खर्च किए रह गई. इस दौरान सांसद कुलस्ते की 16वीं लोकसभा में 85 फीसदी उपस्थिति रही, जिसमें उन्होंने 109 सवाल किए और 41 डिबेट में हिस्सा लिया.