लोकसभा चुनाव 2019: 'कमल' के हाथ में है सीधी की चाबी, कांग्रेस का पंजा 10 सालों से खाली

बता दें सीधी लोकसभा सीट पर पिछले 2 चुनावों से भाजपा कब्जा जमाए बैठी है. ऐसे में एक ओर जहां भाजपा हैट्रिक लगाने की कोशिश में जुटी है तो वहीं कांग्रेस जीत की आस लगाए है.

लोकसभा चुनाव 2019: 'कमल' के हाथ में है सीधी की चाबी, कांग्रेस का पंजा 10 सालों से खाली
सीधी सांसद रीति पाठक (फोटो साभारः facebook)

नई दिल्लीः मध्य प्रदेश की सीधी लोकसभा सीट राज्य की उन एक सीटों में से एक है, जहां बीजेपी और कांग्रेस दोनों के बीच बराबर का मुकाबला देखने को मिलता है. सीधी लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत 7 विधानसभा की 8 सीटें आती हैं, जिनमें चुरहट, चित्रांगी, ब्यौहारी, सिहावल, देवसर, धौहानी, सिद्दी और सिंगरौली शामिल हैं. इन आठों विधानसभा सीटों में से 7 पर भाजपा तो 1 पर कांग्रेस का कब्जा है. 2014 के चुनाव में इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी प्रत्याशी रीति पाठक ने जीत हासिल की थी. उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी इंद्रजीत कुमार को हराया था. बता दें सीधी लोकसभा सीट पर पिछले 2 चुनावों से भाजपा कब्जा जमाए बैठी है. ऐसे में एक ओर जहां भाजपा हैट्रिक लगाने की कोशिश में जुटी है तो वहीं कांग्रेस जीत की आस लगाए है.

राजनीतिक इतिहास
सीधी में पहला चुनाव 1962 में हुआ, जिसमें कांग्रेस के आनंद चंद्रा ने जीत हासिल की थी. इसके बाद 967 में कांग्रेस, 1971 में निर्दलीय उम्मीदवार रामबहादुर सिंह, 1977 में BLD, 1979 के उपचुनाव में JNP के आऱ.एन. सिंह, 1980 और 1984 में कांग्रेस, 1989 में BJP के जगन्नाथ सिंह, 1991 में कांग्रेस के मोतीलाल सिंह और 1996 में AIIC (T) के तिलक राज सिंह ने क्रमशः जीत दर्ज कराई.

इसके बाद 1998 में फिर बीजेपी ने यहां वापसी की और जगन्नाथ सिंह ने जीत हासिल की. फिर 1999, 2004 में BJP के चंद्र प्रताप सिंह ने सीधी लोकसभा सीट पर जीत दर्ज कराई. 2007 के उपचुनाव में सीधी की सीट कांग्रेस के मानिक सिंह पास चली गई, लेकिन फिर 2009 में BJP के गोविंद प्रसाद ने यहां कब्जा किया और 2014 में रीति पाठक यहां से सांसद चुनी गईं.

लोकसभा चुनाव 2019: सागर में 28 सालों से खिलता आ रहा है 'कमल', अब 7वीं जीत पर नजर

मतदाता संख्या
चुनाव आयोग के आंकड़े के मुताबिक 2014 के चुनाव के दौरान यहां वोटर्स की कुल संख्या 17,36,050 थी, जिनमें से 8,20,350 महिला और 9,15,700 पुरुष मतदाता थे, जिनमें से कुल 56.99 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया.

2014 लोकसभा चुनाव नतीजे
2014 के चुनाव में बीजेपी की रीति पाठक ने कांग्रेस के इंद्रजीत कुमार को 1,08,046 वोटों के अंतर से हराया था. इस चुनाव में रीति पाठक को 4,75,678 वोट मिले थे. वहीं कांग्रेस के इंद्रजीत कुमार को 3,67,632 मत ही हासिल हो सके.

Video: मर्यादा भूले कांग्रेस नेता, महिला सांसद के खिलाफ बोले- 'वह ठीक माल नहीं'

सांसद रीति पाठक का रिपोर्ट कार्ड
सीधी सांसद रीति पाठक को उनके निर्वाचन क्षेत्र के विकास कार्यों के लिए 22.87 करोड़ रुपये आवंटित हुए, जिसमें से उन्होंने 19.91 रुपये क्षेत्र के विकास में लगा दिए, वहीं 2.96 बिना खर्च किए रह गए.