close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

B'day Special: फर्स्ट क्लास 10 हजारी क्रिकेटर से लोकप्रिय कॉमेंटेटर बनने की कहानी

Birhtday Special: आकाश चोपड़ा की हिंदी कॉमेंट्री में एक खास क्रिकेटीय समझ दिखाई देती है.

B'day Special: फर्स्ट क्लास 10 हजारी क्रिकेटर से लोकप्रिय कॉमेंटेटर बनने की कहानी
आकाश चौपड़ा की कॉमेट्री के बड़े बड़े क्रिकेटर कायल हैं. (फोटो: फाइल)

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट में कई ऐसी शख्सियत हैं जो क्रिकेट के मैदान पर तो कोई कमाल नहीं दिखा सके, लेकिन बाद में क्रिकेट को अपनी दी गई बेहतरीन सेवा के लिए याद किए जाते हैं. ऐसे ही एक शख्स हैं दिल्ली के आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) जिन्हें टीम इंडिया के फैंस याद करते हैं जब भी इन दिनों टीम का कोई मैच होता है. आकाश ने कम समय में टीम इंडिया के फैंस में अपनी बेहतरीन हिंदी कॉमेंट्री से खास जगह बनाई है.

बड़ी फैन फॉलोइंग है आकाश की
आकाश का कॉमेंट्री करने का अंदाज तो निराला है ही लेकिन उनकी हिंदी में कॉमेंट्री करने के अंदाज के साथ साथ उनकी क्रिकेटीय समझ के भी लोग खासे कायल हैं जो उनके कॉमेंट्री के दौरान साफ झलकती है. आकाश सोशल मीडिया पर भी सक्रिय हैं और कई बार अपने कमेंट्स से चर्चा में भी रहते हैं. सोशल मीडिया, खासतौर पर ट्विटर पर उनकी खासी फैन फॉलोंइंग है ट्विटर पर उनके तीन मिलियन फॉलोअर हैं. 

यह भी पढ़ें: INDvsSA: कप्तान कोहली ने उप कप्तान रोहित से छीने 2 विश्व रिकॉर्ड

घरेलू अनुभव है ज्यादा
आकाश ने टीम इंडिया के लिए केवल 10 टेस्ट मैच ही खेले हैं और वे टीम इंडिया के लिए कोई वनडे मैच नहीं खेल सके. इतने कम इंटरनेशनल अनुभव के बाद भी उनकी कॉमेंट्री में परिपक्वता का राज उनके घरेलू क्रिकेट अनुभव में छिपा है. आकाश ने 1997-98 से फर्स्ट क्लास मैच खेलने शुरू किए थे. जबकि 2013 में उन्होंने आखिरी मैच खेला था. आकाश एक तकनीकी रूप से सशक्त बल्लेबाज रहे. वे क्रीज में टिके रहने का बहुत शानदार धैर्य दिखाते और शायद ही कभी अपना विकेट फेंकते देखे गए. 

यह भी देखें: VIDEO: कॉलिन मुनरो ने रिवर्स स्विच हिट से मारे 3 छक्के, शॉट देख हैरान रह जाएंगे आप
 

कैसा रहा करियर
अपने 10 टेस्ट के करियर में आकाश ने ऑस्ट्रेलिया में चार टेस्ट मैच खेले जहां उन्होंने बढ़िया बल्लेबाजी तो की लेकिन वे 50 प्लस का स्कोर बनाने में कामयाब नहीं हुए जिससी वजह से उनकी प्रतिभा को तवज्जो नहीं मिल सकी. उन्होंने 10 टेस्ट की 19 पारियों में 23 के औसत से 437 रन बनाए जिसमें दो फिफ्टी के साथ उनका सर्वोच्च स्कोर 60 रन है. आकाश ने 162 फर्स्टक्लास टेस्ट में 10839 रन बनाए हैं जो कि उनके क्रिकेटीय ज्ञान में झलकते हैं. उननके नाम 29 फर्स्ट क्लास शतक और 53 हाफ सेंचुरी हैं. करियर के आखिरी पड़ाव में वे हिमाचल प्रदेश के कप्तान थे. 

यह भी पढ़ें: रोनाल्डो ने खुद को मेसी से बेहतर बताया, कहा- मुझे ज्यादा ‘बैलन डि ओर’ मिलने चाहिए

लेखक भी हैं आकाश
आकाश एक बेहतरीन कॉ़मेंटेटर के साथ एक क्रिकेट लेख भी हैं वेबसाइट पर उनके लेख विशेष टिप्पणी के तौर पर आते रहते हैं. इसके अलावा वे क्रिकेट पर किताबें भी लिख चुके हैं. उनकी किताबों में बियोंड द ब्लूज: 'ए फर्स्ट क्लास सीजन लाइक नो अदर', 'आउट ऑफ द ब्लू' प्रमुख हैं. उनके लेखन को समीक्षकों ने बहुत पसंद किया है. इसके अलावा वे सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ की किताबों में आकाश चोपड़ा पर एक-एक चैप्टर है.