close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

loneliness

डियर जिंदगी: आदतों की गुलामी!

कुछ लोग जिनमें क्षमता है, अपनी बात कहने की. वह क्‍या कहते हैं! क्‍या वह कोई नई बात कहते दिखते हैं. कुछ ऐसा जो हमारी सड़ी-गली सोच-विचार की शैली को बदलने में मदद कर सके. सबकुछ वैसा, जैसा चला आ रहा है, उसे कौन बदलेगा. नए सवाल, सोच की बात करना अंतरिक्ष में जाने जैसी चीज नहीं है. लेकिन इसे ऐसा ही बना दिया गया है!

Feb 26, 2019, 11:00 AM IST

डियर जिंदगी: अनुभव की खाई में गिरे हौसले!

अनुभव, जिंदगी का ऐसा तत्‍व है, जिस पर हमारा न्यूनतम नियंत्रण है. लेकिन इसके बाद भी हमने फैसलों की फ्रेंचाइजी उसे दी हुई है. 

Feb 20, 2019, 08:34 AM IST

डियर जिंदगी: बच्‍चों के बिना घर!

बच्‍चों के पढ़ाई के लिए बाहर जाते ही माता-पिता में खालीपन देखा जा रहा है. जैसे किसी ने उनकी मुस्‍कान गिरवी रख दी हो कि खुश रहना मना है.

Feb 15, 2019, 08:52 AM IST

डियर जिंदगी: अरे! कितने बदल गए...

बच्‍चे बहुत तेज़ी से सीखते, समझते और नई चीज़ के लिए तैयार होते हैं. विडंबना यह है कि बड़े होते ही हम अपना ही सबसे अनमोल गुण बिसरा देते हैं.

Feb 12, 2019, 08:05 AM IST

डियर जिंदगी: सबकुछ ठीक होना!

संदेह, प्रेम की कमी से हम रिक्‍त, रूखे और कठोर होते जाते हैं. धीरे-धीरे यह हमारा स्‍थाई बनता जाता है. चित्‍त में जो भाव ठहर जाए, वह आसानी से नहीं बदलता.

Feb 11, 2019, 08:54 AM IST

डियर जिंदगी : रिटायरमेंट और अकेलापन!

आगरा, उत्‍तरप्रदेश से ‘डियर जिंदगी’ के बुजुर्ग ने भावुक अनुभव साझा किया है. इस संदेश में सवाल, सरोकार, चिंता के साथ अकेलेपन की पीड़ा शामिल है. सुरेश कुलश्रेष्‍ठ का अनुरोध है कि इसे इनके नाम, परिचय के साथ प्रकाशित किया जाए. सुरेश जी चाहते हैं कि जो उनके साथ हुआ उनके किसी हमउम्र के साथ न हो!

Feb 4, 2019, 09:42 AM IST

डियर जिंदगी: फैसला कौन करेगा!

इस बात को गंभीरता से समझने की जरूरत है कि जीवन किसका है. इस पर किसका अधिकार है! सपने किसके हैं, दायित्व किसका है और अंततः जिम्मेदारी किसकी!

Feb 1, 2019, 08:11 AM IST

डियर जिंदगी: बच्‍चों से मत कहिए, मुझसे बुरा कोई न होगा!

परीक्षा के कठिन मौसम में बच्‍चे बहुत अधिक तनाव में हैं. हमें सजग, सतर्क और आत्‍मीयता से अपनी भू‍मिका निभाने की जरूरत है. हमारा कोई भी सपना बच्‍चों के जीवन से बड़ा नहीं!

Jan 21, 2019, 08:45 AM IST

डियर जिंदगी : क्‍या कहना है, बच्‍चों से!

बच्‍चे केवल स्‍कूल में ही असफल होते हैं! स्‍कूल के सहारे बच्‍चों को मत छोडि़ए. उनका जीवन संवारने की जिम्‍मेदारी हमारी है, स्‍कूल की नहीं. बच्‍चा आपका है, स्‍कूल का नहीं. इसे बहुत अच्‍छी तरह समझना होगा.

Jan 2, 2019, 09:52 AM IST

डियर जिंदगी: जोड़े रखना ‘मन के तार’!

‘इस बरस आपके मन के तार उन सबसे जुड़े रहें, जिन्‍हें आप प्रेम करते हैं. जो आपको स्‍नेह करते हैं. उनकी आत्‍मीयता, स्‍नेहन के आंगन में आपको जिंदगी के सबरंग मिले!’

Jan 1, 2019, 08:39 AM IST

डियर जिंदगी: हंसी एक तरह की निकटता है!

अकेलापन अनायास आई अपरिचित चुनौती नहीं, बल्कि यह उस कमी से  उपजी है, जिसे हम अपनेपन के नाम से जानते हैं.

Dec 31, 2018, 08:21 AM IST

डियर जिंदगी: अकेलेपन की सुरंग और ‘ऑक्‍सीजन’!

हरियाली के बीच मन में उदारता, दूसरों की सहायता की भावना बढ़ने के साथ ब्‍लड-प्रेशर, अवसाद से लड़ने की शक्ति मिलती है. 

Nov 12, 2018, 08:18 AM IST

डियर जिंदगी: जो मेरे घर कभी नहीं आएंगे...

दुनिया छोटी कोशिश के मरहम का नाम है, इससे ही जिंदगी को रास्‍ते मिलते हैं. 

Nov 2, 2018, 09:01 AM IST

डियर जिंदगी : अकेलेपन की ‘इमरजेंसी’

दूसरों के प्रति प्रेम में कमी, महत्वाकांक्षा का पहाड़ हमें एक ऐसी दुनिया बनाने की ओर धकेल रहा है, जहां हमारा मनुष्‍यता से संपर्क हर दिन कम हो रहा है!

Oct 29, 2018, 10:34 AM IST

डियर जिंदगी : मीठे का ‘खारा’ होते जाना

अकेलापन, केवल अकेले रहना नहीं है. यह तो उस संक्रामक विचार प्रक्रिया का ‘टिप ऑफ आइसबर्ग’ है, जो अपने साथ निराशा, दुख, ईर्ष्‍या और गहरी उदासी को साथ लिए चलता है.

Oct 4, 2018, 09:20 AM IST

ZEE जानकारीः दुनिया का एक ऐसा देश जहां के 90 लाख लोग हर रोज़ अकेलेपन का सामना करते है

पिछले साल ब्रिटेन में एक सर्वे किया गया था जिसमें ये पाया गया कि वहां के 90 लाख लोग अकेलेपन के शिकार हैं . 

Aug 15, 2018, 12:59 AM IST

अकेलापन इन मरीजों के लिए है बेहद खतरनाक, मौत के खतरे को कर देता है दोगुना

यूं तो अकेलापन सभी के लिए खराब होता है लेकिन दिल के मरीजों के लिए यह बेहद घातक है और उनमें मौत के खतरे को दोगुना करता है. 

Jun 10, 2018, 07:39 PM IST

डियर जिंदगी : सुनो, बात करो! बात की फीस मिलेगी...

हम जिस समय में हैं, वहां मनुष्य के चेहरे तक का रंग बदला हुआ है. उसके चेहरे पर जीवन की महत्‍वाकांक्षा का रंग इतना गहरा हो चला है कि शक्‍लें पहचानना हर दिन मुश्किल होता जा रहा है. 

Apr 25, 2018, 07:41 AM IST

डियर जिंदगी : 'स्‍नेह' के गांव में 'रेगिस्‍तान'...

भारतीय समाज की सबसे बड़ी खूबियों में से उसका संतोषी और स्‍नेही होना रहा है.

Jan 19, 2018, 10:06 AM IST

डियर जिंदगी : ‘स्‍नेह' के गांव में ‘रेगिस्‍तान’

हर कोई महसूस कर सकता है कि हमारे बीच अनुराग कम हो रहा है. पड़ोसी, दोस्‍त, परिवार की खुशी में हमारी रुचि घटती ही जा रही है. करियर की दौड़ में एक-दूसरे को अनदेखा करने की आदत गंभीर बीमारी की ओर बढ़ रही है.

Jan 18, 2018, 07:05 PM IST