योगी के मंत्री बोले- दानिश कनेरिया का भारत में स्वागत,चाहें तो मिल सकती है नागरिकता

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा ने पूर्व पाकिस्तानी खिलाड़ी दानिश कनेरिया पर पाकिस्तान में हो रहे अत्याचार की निंदा करते हुए कहा कि यदि वो चाहें तो उन्हें भारत की नागरिकता मिल सकती है.

योगी के मंत्री बोले- दानिश कनेरिया का भारत में स्वागत,चाहें तो मिल सकती है नागरिकता

लखनऊ: हाल ही में पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर दानिश कनेरिया पर अत्याचार की खबर सामने आई. ये बात खुद पूर्व पाकिस्तानी तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने स्वीकार की है जिसकी दानिश कनेरिया ने भी पुष्टि की है.  शोएब अख्तर ने एक टीवी इंटरव्यू में कहा था कि कनेरिया के साथ टीम के खिलाड़ी दुर्व्यवहार करते थे. इतना ही नहीं कनेरिया के साथ टीम के साथी खिलाड़ी खाना तक नहीं खाते थे. वजह मजहबी दीवार थी. 

मोहसिन रजा ने भारत आने का दिया न्यौता

मंत्री मोहसिन रजा ने पूर्व पाकिस्तानी खिलाड़ी दानिश कनेरिया विवाद पर बड़ा बयान दिया है. मोहसिन रजा ने कहा कि कनेरिया और यूसुफ योहाना जैसे लोगों का भारत में स्वागत है. उन्होंने कहा कि दिनेश कनेरिया का जो मसला है, हम तो कहते हैं कि दिनेश कनेरिया का भारत में स्वागत है. हिंदुस्तान आइए और यहां की नागरिकता लीजिए.

कनेरिया ने खुद पर अत्याचार की बात स्वीकारी

दानिश कनेरिया ने न्यूज एजेंसी ANI से कहा, "शोएब अख्तर ने जो कहा, सही कहा है. मैं अब उन खिलाड़ियों के नाम का खुलासा करूंगा जो मेरे खाना नहीं खाते थे क्योंकि मैं हिंदू हूं. मेरे पास इस सच्चाई को सामने रखने का साहस नहीं था लेकिन अब मैं सच चुप नहीं रहूंगा." उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार की खबरें आती रहती हैं. पूरी दुनिया में उसकी आलोचना हो रही है. लेकिन अल्पसंख्यकों के खिलाफ यह अत्याचार और दुर्व्यवहार खेल जगत में भी मौजूद है, इसकी कोई कल्पना नहीं कर सकता.

शोएब अख्तर ने किया था इसका खुलासा

शोएब अख्तर ने हाल ही में क्रिकेट जगत को चौंकाते हुए स्वीकार किया था कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक क्रिकेटरों के साथ अमानवीय व्यवहार किया गया था। पूर्व लेग स्पिनर दानिश कनेरिया का उदाहरण देते हुए शोएब अख्तर एक क्रिकेट शो पर बता रहे थे कि कैसे कुछ एक क्रिकेटरों को छोड़कर बाकी टीम दानिश के साथ खाने से भी चिढ़ती थी.

ये भी देखें- पाकिस्तानी क्रिकेट टीम में हिन्दू खिलाड़ियों को सताया जाता था!