विभाग में भ्रष्टाचार से परेशान हुए मंत्री, ईमानदारी के लिए सुनाई हनुमान चालीसा की चौपाई

मंत्री रामसूरत राय ने कहा, 'ऑनेस्टी इज बेस्ट पॉलिसी' होती है. इसमें थोड़ी परेशानी जरूर होती है. लेकिन समय के साथ परेशानी खुद-ब-खुद दूर भी हो जाती है.

विभाग में भ्रष्टाचार से परेशान हुए मंत्री, ईमानदारी के लिए सुनाई हनुमान चालीसा की चौपाई
मंत्री ने डाटा एंट्री ऑपरेटरों को ईमानदारी के लिए सुनाई हनुमान चालीसा की चौपाई.

Patna: भूमि एवं राजस्व विभाग में भ्रष्टाचार एक बड़ी समस्या रही है. विभाग के मंत्री अधिकारी सिस्टम को दुरुस्त करने में जुटे हैं. कई मंचों से मंत्री अधिकारियों की पीड़ा भी समय-समय पर नजर आती रही है. कुछ ऐसी ही तस्वीर सोमवार को पटना में नजर आयी, जब डाटा एंट्री ऑपरेटरों (Data Entry Operator) के ट्रेनिंग वर्कसाप के अवसर पर मंत्री को ईमानदारी का पाठ पढ़ाने के लिए हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) की चौपाई का सहारा लेना पड़ा. 

हालांकि, ऑपरेटरों का मनोबल बढ़ाने के लिए मंत्री ने काम के आधार पर मनचाही पोस्टिंग का ऑफर भी दिया. दरअसल, मौका था 534 डाटा एंट्री ऑपरेटरों की ट्रेनिंग के लिए वर्कशॉप का और विभाग के मंत्री राम सूरत राय भी पूरे जोश में थे. विभाग में फैले भ्रष्टाचार को दूर करने में जुटे मंत्री नए कर्मचारियों में करप्शन का घुन न लगे इसका ख्याल भी रखने में जुटे हैं. 

मंत्री ने डाटा एंट्री ऑपरेटर्स को पढ़ाया ईमानदारी का पाठ
डाटा एंट्री ऑपरेटर पद को ज्वाइन करने से पहले ट्रेनिंग लेने वाले विभाग के कर्मचारियों को मंत्री ने ईमानदारी का पाठ भी कुछ अलग अंदाज में पढ़ाया. इसके लिए मंत्री रामसूरत राय को हनुमान चालीसा की चौपाई का सहारा लेना पड़ा.  

ये भी पढ़ें-झारखंड में RJD को मजबूत करने में जुटे तेजस्वी यादव, बोले: खून-पसीने से पार्टी को सींचने वालों को मिलेगा सम्मान
 
'बीमारी शरीर में घर करने लगेगी'
मंत्री रामसूरत राय ने कहा, 'ऑनेस्टी इज बेस्ट पॉलिसी' होती है. इसमें थोड़ी परेशानी जरूर होती है. लेकिन समय के साथ परेशानी खुद-ब-खुद दूर भी हो जाती है. लेकिन लोग जब गलत रास्ते पर जाते हैं तब शुरू में अच्छा लगता है. आपके पास खूब संपत्ति हो जाती है लेकिन रात में आपको नींद नहीं आएगी. बीमारी आपके शरीर मे घर करने लगती है. मरने के वक्त लोग जाप भी करने लगते हैं, 'भूत पिसाच निकट नहीं आवे'. उसी तरह निगरानी और ईडी विभाग आपके पीछे पर जाएंगे. इसलिए ईमानदारी से काम कीजिए.'

'डेटा ऑपरेटर सजा के भागी होंगे'
रामसूरत राय ने आगे कहा कि डेटा एंट्री ऑपरेटर को अब उनका खुद का डोंगल दिया जा रहा है. डोंगल से गलत डिजिटल सिग्नेचर हुआ तो उसके लिए डाटा एंट्री ऑपरेटर जिम्मेवार होंगे. उसमें जल्द सुधार होने चाहिए. अगर जान बूझकर गलत हुआ तो डेटा ऑपरेटर सजा के भागी होंगे.

'जनता भगवान है उनकी सेवा कीजिए'  
उन्होंने कहा, 'सीओ-सीआई कर्मचारी लेवल पर शिकायत आ रही है. लोगों से प्यार से बात करने की जरूरत. जनता भगवान है उनकी सेवा कीजिए. हमलोग जनता के सेवक हैं मालिक नहीं.'  

ये भी पढ़ें-यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर VIP तैयार, आगरा में अगले महीने प्रचार शुरू करेंगे मुकेश सहनी

 

मनचाही पोस्टिंग का दिया ऑफर
मंत्री ने नए डाटा एंट्री ओपरेटर को सख्त लहजे में कहा, 'अभी आपकी ज्वाईनिंग हुई है. आप किसी भी नेता-विधायक से मनचाही पोस्टिंग के लिए पैरवी न करें. आप पहले अच्छा काम कीजिए, नाम कीजिये और फिर आपके परफार्मेंस के आधार पर मैं आपकी मनचाही पोस्टिंग कर दूंगा.' राय ने डाटा एंट्री ऑपरेटरों को प्रोत्साहित करने के लिए 11 चुनिंदा ऑपरेटरों को पार्कर कंपनी का पेन और पेनड्राईव देने की भी घोषणा की. 

एक दिन में करोड़पति बनने की न सोचें
वहीं, मौके पर मौजूद विभाग के अपर मुख्य सचिव विवेक सिंह ने कहा कि डाटा एंट्री ऑपरेटर विभाग के महत्वपूर्ण अंग हैं. विवेक सिंह ने कहा कि इज्जत से बड़ी संपति कुछ नहीं होती है. एक दिन में कोई करोड़पति बनने की न सोचें. विभाग को डिजिटल क्षेत्र में अच्छे काम के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार मिला है. मैंने अधिकरियो को निर्देश दिया है दो मुद्दों पर बेहतर तरीके से काम से करने की जरुरत है. 

सिंह ने कहा कि गलत करने वालों की पहचान करें और नए लोगों को बेहतर तरीके से प्रशिक्षित करें ताकि वो पुराने वालों की तरह गलत धारा में न बह जाएं.