कोरोना से ऐसे जंग जीतेगा झारखंड, ऑक्सीजन पाइप लाइन की जाएगी इंस्टॉल

Jharkhand Samachar: बेड लगाने की व्यवस्था तथा ऑक्सीजन पाइप लाइन को इंस्टॉल करने के संबंध में निर्देश दिए. 

कोरोना से ऐसे जंग जीतेगा झारखंड, ऑक्सीजन पाइप लाइन की जाएगी इंस्टॉल
ऑक्सीजन पाइप लाइन की जाएगी इंस्टॉल. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Ranchi: झारखंड में कोरोना (Corona) संक्रमण की रफ्तार बढ़ती जा रही है. एक तरफ संक्रमण की रफ्तार को रोकने के लिए आज से लॉकडाउन लागू किया गया है. वहीं, दूसरी तरफ स्वास्थ्य सुविधाएं भी सरकार की तरफ से बढ़ाई जा रही है. इसके साथ ही 100 बेड ऑक्सीजन युक्त रिसालदार बाबा हॉस्पिटल में तैयार किए जा रहे है. वहीं, रिसालदार स्थित शहरी स्वास्थ्य केंद्र को 100 बेड के साथ कोविड-19 हॉस्पिटल बनाने की तैयारी की जा रही है.

ये भी पढ़ेंः कोरोना के बढ़ते ऑकड़ों को देख हेमंत सरकार ने मांगी सेना की मदद, फैसले का है इंतजार

मंगलवार को उप विकास आयुक्त विशाल सागर ने ऑक्सीजन पाइप लाइन के कार्य प्रगति की समीक्षा की. साथ हीं, बेड लगाने की व्यवस्था तथा ऑक्सीजन पाइप लाइन को इंस्टॉल करने के संबंध में निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि यह कार्य शीघ्र संपन्न करा लिया जाए. ताकि कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए इसे कार्यरत किया जा सकें. इधर, मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन (Hemant Soren) ने ऑक्सीजन सपोर्ट बेड बढ़ाने का निर्देश दिए है. वहीं, झारखंड के अस्पतालों को रेमडेसिविर के 10 हजार डोज 26 अप्रैल तक मिल जाएंगे और 4 दिन में 2,234 ऑक्सीजन बेड बढ़ा दिए जाएगें. जानकारी के अनुसार, झारखंड में 24 घंटे में 5041 नए मरीज कोरोना सक्रंमित पाए गए. साथ हीं,  62 की मौत हुई. रांची में  सबसे ज्यादा 1,361 मरीज पाए गए और 22 मौतें हुई.

ये भी पढ़ेंः झारखंड में आज से 29 अप्रैल तक फुल Lockdown, करना होगा इन नियमों का पालन...

 बुधवार को हुई मौत में पूर्वी सिंहभूम के 11, धनबाद के 5, पश्चिमी सिंहभूम व रामगढ़ के 4-4, साहेबगंज व कोडरमा के 3-3, दुमका व गोड्डा के 2-2 और चतरा, देवघर, गढ़वा, खूंटी, लोहरदगा और पलामू के 1-1 लोग शामिल हैं.

इधर, संक्रमितों में दूसरे नंबर पर पूर्वी सिंहभूम रहा. यहां एक दिन में 718 नए मरीज मिलें. झारखंड में कोरोना का लगातार विस्फोट हो रहा है. हर दिन संक्रमितों और मौत का ऑकड़ा बढ़ता जा रहा है. इसके साथ ही झारखंड़ में कुल 1,77,356 पॉजिटिव मामलें, 35,826 सक्रिय मामलें, 1,39,921 ठीक और 1,609 मौतें हुई हैं.