close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

AAP सरकार के कामकाज में बाधाएं पैदा करना ‘देश के साथ धोखा’ है: केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि उनकी सरकार को शहर में स्कूल, अस्पताल और मोहल्ला क्लीनिकों को बनाने से रोका गया. 

AAP सरकार के कामकाज में बाधाएं पैदा करना ‘देश के साथ धोखा’ है: केजरीवाल
दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में राज्य स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया. (फोटो साभार - PTI)

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि आम आदमी पार्टी (आप) सरकार के कामकाज में बाधाएं पैदा करना 'देश के साथ विश्वासघात' की तरह है. केजरीवाल छत्रसाल स्टेडियम में राज्य स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान लोगों को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने आरोप लगाया कि उनकी सरकार को शहर में स्कूल, अस्पताल और मोहल्ला क्लीनिकों को बनाने से रोका गया.

मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी से पहले क्रांतिकारियों की लड़ाई को कमजोर करने के लिए कुछ लोग अंग्रेजों की मदद किया करते थे और आज भी कुछ ऐसे लोग हैं जो देश के साथ ऐसा करने का प्रयास कर रहे है.

'मुझे स्कूलों का निर्माण करने से रोका गया'
उन्होंने किसी का नाम लिए बगैर कहा, 'यदि मैं लोगों के लिए स्कूल, अस्पताल, मोहल्ला क्लीनिकों को बनाता हूं तो मैं क्या गलत करता हूं. मुझे स्कूलों का निर्माण करने से रोका गया. मैं पूरे देश से पूछना चाहता हूं कि देशभक्ति क्या हो सकती है.' पहले भी कई मौकों पर केजरीवाल और उनकी पार्टी भाजपा के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार पर दिल्ली सरकार के कार्यों में बाधाएं पैदा करने का आरोप लगाती रही है.

दिल्ली से संबंध रखने वाले शहीदों के परिजनों के लिए आप सरकार की एक करोड़ रुपये की अनुग्रह राशि योजना का जिक्र करते हुए केजरीवाल ने आरोप लगाया कि उन्हें इसे लागू करने से भी रोका जा रहा है.

केजरीवाल ने कहा, 'मैं पूछना चाहता हूं कि क्या यह देश के साथ धोखा नहीं है. इसमें राजनीति क्यों है. यदि सीमा पर सैनिक अपने प्राणों को न्योछावर करते हैं, तो वह नहीं देखते है कि वह भाजपा या कांग्रेस या आप के एक व्यक्ति की जान बचा रहे है और इसके बजाय वह देश की रक्षा करते हुए अपने प्राणों को न्योछावर कर देते है.' उन्होंने कहा, 'हमें हमारा काम करने से रोका जा रहा है जो देश के साथ धोखा है.' 

(इनपुट - भाषा)