close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कप्तान कोहली ने क्यों कहा, 'मेरी कुलदीप से भी उतनी ही दोस्ती है, जितनी धोनी से'

कोहली ने कहा, "मैं खुद अब लोगों के पास जाकर कहता हूं- देखो ये गलतियां मैंने की हैं. तुम मत करना."

कप्तान कोहली ने क्यों कहा, 'मेरी कुलदीप से भी उतनी ही दोस्ती है, जितनी धोनी से'
कप्तान ने कहा कि वह खिलाड़ियों को अपने विचार रखने का मौका देने पर भरोसा करते हैं. (फाइल फोटो)

मुंबई: भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने जोर देकर कहा है कि भारत के ड्रेसिंग रूम में माहौल बहुत अच्छा रहता है और सभी को अपना विचार सामने रखने की आजादी होती है. 'द टाइम्स ऑफ इंडिया' को दिए इंटरव्यू में कोहली ने कहा, "डांटने वाला माहौल अब चेंज रूम में है ही नहीं. मेरी कुलदीप से भी उतनी ही दोस्ती है, जितनी धोनी से है. माहौल ऐसा है कि आप किसी से कुछ भी कह सकते हैं."

कोहली ने कहा, "मैं खुद अब लोगों के पास जाकर कहता हूं- देखो ये गलतियां मैंने की हैं. तुम मत करना." कप्तान ने कहा कि वह खिलाड़ियों को अपने विचार रखने का मौका देने पर भरोसा करते हैं. उन्होंने कहा, "मैं लोगों को सशक्त बनाने में विश्वास करता हूं. मैं उन्हें अपने विचार रखने देता हूं और जब वे किसी प्रकार की परेशानी महसूस करते हैं तो मैं उनसे बात करता हूं."

ज्यादा आपको खेलना है...
कोहली ने कहा, "मैं उनसे कहता हूं कि आप इस ओर बढ़ रहे हैं और आपको इस ओर जाना चाहिए. इस तरह की चीजें आपको करनी चाहिए. बाद में आपको पछतावा होगा कि आपने पहले उन चीजों को ठीक क्यों नहीं कर ली. मैं नहीं चाहता कि आप अपने करियर के दो-तीन साल बर्बाद करें. आपने जो खेला है, आपको उससे ज्यादा आपको खेलना है."

ICC टेस्ट रैंकिंग: टीम इंडिया और विराट कोहली की कायम है बादशाहत, दूसरे नंबर पर है ये खिलाड़ी

हार को पचाना मुश्किल
उन्होंने विश्व कप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ मिली हार पर भी बात की. कोहली ने कहा, "इसे पचाना बहुत मुश्किल है क्योंकि आप जानते हैं कि आपने बहुत सारी गलतियां नहीं की हैं, फिर भी आप टूर्नामेंट से बाहर हो गए हैं. जब आप गलतियां करते हैं, तो आप उसे इंगित करके उसे मान सकते हैं, लेकिन जब आप करारी शिकस्त झेलते हैं तब हार स्वीकार करना मुश्किल हो जाता है. आप जागते हैं और सोचते हैं कि आपने बहुत गलतियां नहीं की लेकिन आप फिर भी बाहर हैं."

वेस्टइंडीज के लिए चुनी गई टीम पर गांगुली ने उठाए सवाल, इस वजह से हुए हैरान

असफलताओं से बहुत कुछ सीखा
कोहली ने कहा कि उन्होंने अपने जिंदगी में असफलताओं से बहुत कुछ सीखा है. उन्होंने कहा, "मैंने अपने जीवन में असफलताओं से बहुत कुछ सीखा है. बुरे वक्त ने मुझे ना केवल आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया बल्कि एक इंसान के तौर पर भी मुझमें सुधार हुआ. इससे मुझे खराब दौर की अहमियत सफलता से ज्यादा महसूस हुई. इससे मुझे लगा कि बैठकर सोचें कि अब क्या करने की जरूरत है और अपने लिए रोडमैप तैयार करें."

विंडीज के खिलाफ रोमांचक सीरीज
वेस्टइंडीज के खिलाफ आगीम टेस्ट सीरीज पर कोहली ने कहा, "यह बहुत ही रोमांचक है. मुझे लगता है कि यह टेस्ट क्रिकेट के लिए बहुत सही समय पर हो रहा है. यद्यपि आप द्विपक्षीय सीरीज खेलने जा रहे हैं, लेकिन इसका अर्थ और महत्व अधिक है. आपको हर सीरीज के लिए योजना बनानी होगी. मैं इस तरह की चीज के बारे में उत्साहित था और अब ऐसा सही में हो रहा है."

(इनपुट-आईएएनएस)