close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

India Open 2019: पूर्व वर्ल्ड चैंपियन ने कहा- साइना नेहवाल दुनिया में सबसे कठिन प्रतिद्वंद्वी

रतचानोक इंतानोन ने इंडिया ओपन में अपना पहला मुकाबला महज 21 मिनट में जीत लिया. वे यह टूर्नामेंट दो बार जीत चुकी हैं. 

 India Open 2019: पूर्व वर्ल्ड चैंपियन ने कहा- साइना नेहवाल दुनिया में सबसे कठिन प्रतिद्वंद्वी
थाईलैंड की रतचानोक इंतानोन इंडिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में चौथी वरीयता दी गई है. (फोटो: IANS)

नई दिल्ली: दो बार की पूर्व चैंपियन रतचानोक इंतानोन (Ratchanok Intanon) ने इंडिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट (India Open 2019) में बेहतरीन शुरुआत की है. उन्होंने महिला सिंगल्स में अपना पहला मैच महज 21 मिनट में जीत लिया. थाईलैंड की इंतानोन ने भारत की साई उत्तेजिता राव चुक्का को 21-9, 21-6 से हराया. हालांकि वे मानती हैं कि टूर्नामेंट (India Open) में तीसरे खिताब की उनकी राह आसान नहीं होने वाली है. साल 2013 और 2016 में इंडिया ओपन जीत चुकीं इंतानोन ने एक सवाल के जवाब में कहा कि उनके लिए सबसे अधिक मुश्किल वक्त तब होता है, जब उन्हें साइना नेहवाल (Saina Nehwal) से मुकाबला करना पड़ता है. 

चौथी वरीयता प्राप्त इंतानोन ने कहा, ‘मुझे इंडिया ओपन में अच्छे प्रदर्शन का भरोसा है. पहला मैच आसान रहा लेकिन आगे की राह आसान नहीं होगी. मेरे लिए ड्रॉ अच्छा है लेकिन मैं चैंपियन बनने के बारे में सोचकर खुद पर दबाव नहीं बनाना चाहती.’ टोक्यो ओलंपिक 2020 के लिए क्वालीफिकेशन समय शुरू होने वाला है और इंतानोन ने कहा कि वह इस दौरान चार से पांच टूर्नामेंट जीतना चाहती हैं. वे इसके लिए अपनी फिटनेस के आधार पर ही फैसला करेंगी कि किसी टूर्नामेंट में खेलना है और किसमें नहीं. 

यह भी पढ़ें: IPL 2019: विराट-रोहित दोनों को पहली जीत की तलाश, इस प्लेइंग XI के साथ उतर सकती हैं टीमें

दुनिया की आठवें नंबर की खिलाड़ी रतचानोक इंतानोन ने कहा, ‘मैं अपनी फिटनेस के आधार पर चयन करूंगी कि कौन सा टूर्नामेंट मेरे लिए सही रहेगा. ओलंपिक क्वालीफिकेशन के कारण यह साल सभी खिलाड़ियों के लिए महत्वपूर्ण है. इस साल काफी टूर्नामेंट होने हैं और चोटों से बचना महत्वपूर्ण होगा.’ 

महिला सिंगल्स में बढ़ती प्रतिस्पर्धा पर इंतानोन ने कहा, ‘अब अधिकांश प्रतिद्वंद्वी अनुभवी हो गई हैं. इससे प्रतिस्पर्धा बढ़ गई है. जब मैं युवा थी तो जुईरुई ली जैसी खिलाड़ियों के खिलाफ काफी खेली. तब पीवी सिंधु (PV. Sindhu), कैरोलिन मारिन और नाजोमी ओकुहारा युवा थीं. उस समय वे मेरे जितनी अनुभवी नहीं थी, लेकिन अब मेरे से बेहतर प्रदर्शन कर रही हैं. महिला सिंगल्स में काफी बदलाव आया है. पहले अनुभव काफी मायने रखता था लेकिन अब पुरुष एकल की तरह गति और मजबूती भी महत्वपूर्ण हो गई है.’ 

इंतानोन ने कहा कि उन्हें साइना नेहवाल का सामना करने में सबसे अधिक परेशानी का सामना करना पड़ता है. थाईलैंड की इस खिलाड़ी ने कहा, ‘साइना का सामना करना काफी मुश्किल होता है. मुझे पता है कि साइना मजबूत खिलाड़ी हैं. वे कभी हार नहीं मानतीं. मैंने एशियन गेम्स में उन पर बड़ी बढ़त बना रखी थी, लेकिन वे वापसी करते हुए जीत दर्ज करने में सफल रहीं. वे अच्छी फाइटर हैं और मुझे उनसे सीखना होगा.’ 

इंतानोन ने कहा, ‘सिंधु के खिलाफ भी साइना का रिकार्ड अच्छा है और वापसी करने की क्षमता उन्हें बेहतर खिलाड़ी बनाती है. सिंधु ने काफी टूर्नामेंटों के फाइनल में जगह बनाई है. मैं सिंधू के अधिक करीब हूं क्योंकि हमारी उम्र समान है. वे मेरा समर्थन करती हैं और मैं भी उनका समर्थन करती हूं.’

(भाषा)