close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

noise pollution

UP में दिवाली पर पटाखों को लेकर गाइडलाइन, रात 8-10 बजे के बीच ही जलाए जाएंगे पटाखे

जारी गाइडलाइंस के अनुसार जिला प्रशासन को पटाखे जलाने की जगह तय करनी होगी. यही नहीं नियमों का पालन सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी संबंधित थाने के एसओ की होगी.

Oct 23, 2019, 03:36 PM IST

मुंबई में खेला जाएगा साइलेंट गरबा, जानें आखिर क्या है कारण

म्यूजिक के बिना गरबा का क्या मजा? आप गानों की धुन पर गरबा खेलें और आवाज न आए क्या ऐसा कभी हो सकता है? जी हां, मुंबई में इस साल सायलेंट गरबा खेला जाएगा. दरअसल, ध्वनि प्रदूषण को कम करने के लिए लोग हेडफोन लगाकर गरबा खेलेंगें. ये गरबा राजमहल बैंक्वेट हॉल में 4, 5 और 6 अक्टूबर को खेला जाएगा.

Oct 1, 2019, 02:10 PM IST

UP: शादियों में नहीं होगा शोरगुल, 100 मीटर से ज्यादा दूरी तक की बारात भी नहीं निकलेगी

Allahabad High Court: कोर्ट ने कहा कि जो बार-बार नियम तोड़ता है इसका लाइसेंस निरस्त कर दिया जाए. सख्त निर्देश देते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा कि ध्वनि प्रदूषण नियंत्रण नियमों का कड़ाई से पालन किया जाए.

Sep 27, 2019, 09:01 AM IST

इलाहाबाद HC का बड़ा फैसला, UP में DJ बजाने पर रोक, बजाया तो होगी 5 साल की कैद

कोर्ट ने बच्चों, बुजुर्गों औऱ अस्पतालों में भर्ती मरीजों की सहूलियत को देखते हुए सूबे में डीजे बजाने की अनुमति देने पर रोक लगा दी है

Aug 21, 2019, 01:25 PM IST

दिल्ली: मस्जिद के लाउडस्पीकर से लोगों को परेशानी, NGT ने कहा- ये गंभीर अपराध है पुलिस कार्रवाई करे

पीठ ने कहा कि नागरिकों को शांतिपूर्ण पर्यावरण का संवैधानिक अधिकार है और निर्धारित मानदंडों से अधिक ध्वनि प्रदूषण गंभीर दंडनीय अपराध है.

Mar 20, 2019, 07:31 PM IST

नोएडा : रात 10 बजे के बाद ध्वनि प्रदूषण पर सख्त कार्रवाई के निर्देश

सभी बारात घरों, बैंक्वेट हाल तथा अन्य समारोह स्थल के संचालकों को नोटिस जारी किए गए है. उनको सुप्रीम कोर्ट एवं उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा पारित आदेशों का कड़ाई से अनुपालन करने की हिदायत दी गई है. 

Jan 29, 2019, 09:36 PM IST

सत्संग के दौरान हेडफोन का इस्तेमाल कर ध्वनि प्रदूषण कम करने का संदेश दे रहे श्रद्धालु

लोगों को तकलीफ ना हो इसके लिए पिछले दो सालो से इस पूरा प्रवचन लाउड स्पीकर पर ना सुन कर लोग हेडफोन पर सुनते हैं. 

Nov 22, 2018, 03:40 PM IST

ZEE जानकारीः शोर के ज़रिए अपनी ताकत दिखाना भी एक प्रदूषण है

मनोवैज्ञानिक मानते हैं कि जो लोग इस तरह शोर मचाकर दूसरों से आगे निकलने की कोशिश करते हैं.उन्हें ऐसा लगता है कि उनकी कुंठा और गुस्सा कम हो जाएगा.

Nov 8, 2018, 11:31 PM IST

HC के हस्तक्षेप का दिखा असर, गणपति विसर्जन के दौरान पहले के मुकाबले ध्वनि प्रदूषण हुआ कम

मुंबई में कानफाड़ू संगीत और लाउडस्पीकर त्योहारों की पहचान बनकर रह गए हैं. सबसे ज्यादा शोर तो गणपति विसर्जन के दौरान होता है. 

Sep 24, 2018, 03:30 PM IST

डीजे जैसी ऑडियो प्रणालियां ध्वनि प्रदूषण के प्रमुख स्रोत : महाराष्ट्र सरकार

ध्वनि प्रदूषण नियम-2000 के तहत ध्वनि की अधिकतम सीमा 100 डेसिबल तय की गई है. 

Sep 19, 2018, 07:44 PM IST

ZEE जानकारीः धार्मिक भावनाओं को सड़क पर प्रदर्शित करने का विश्लेषण

गुरुग्राम में हिंदूवादी संगठनों ने खुले में नमाज़ पढ़ रहे कुछ लोगों को रोका, जिसके बाद सोशल मीडिया पर तस्वीरें वायरल होने लगीं और ये विवाद बढ़ गया. इस विवाद को धार्मिक असहनशीलता का एंगल दे दिया गया और फिर जो शोर मचा उसमें मूल मुद्दा कहीं खो गया.

मई 9, 2018, 11:48 PM IST

क्यों न सरकार पूरे UP में लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दे: इलाहाबाद हाईकोर्ट

हाईकोर्ट ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि आदेश के बावजूद स्थितियों में जरा भी नहीं आया बदलाव, लोग ध्वनि प्रदूषण फैला रहे हैं.

Feb 23, 2018, 08:20 PM IST

ध्वनि प्रदूषण फैलाने पर नोएडा के एक बैंक्वेट हॉल पर लगा सात लाख का जुर्माना

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने नोएडा में एक अस्पताल के बगल में बने एक बैंक्वेट हॉल पर ध्वनि प्रदूषण फैलाने के लिए सात लाख रूपये का जुर्माना लगाया है.

मई 28, 2017, 12:16 PM IST

ज़ी जानकारीः यूं सुकून भरी जिंदगी के दुश्मन बन रहे बेवजह बजते हॉर्न

आम लोगों को यह फैसला लेने का अधिकार है कि वो शोर सुनना चाहते हैं या नहीं। लेकिन फिर भी हमारे देश के हर इलाके में वाहनों के हॉर्न, लाउडस्पीकर्स, शादियों का कानफोड़ू संगीत और राजनीतिक और धार्मिक आयोजनों से आने वाली ऊंची आवाजें लोगों का जीना मुश्किल कर देती हैं। ये आवाजें सारे नियमों और कानूनों को तोड़कर आम लोगों के सुख और शांति में अतिक्रमण करने लगती हैं।

Jun 11, 2016, 12:18 AM IST

Zee जानकारी : महानगरों में एक बड़ी समस्या बन गया है ध्वनि प्रदूषण

शांति की तलाश में आप अक्सर ऐसी जगहों पर जाना पसंद करते हैं जहां कम शोर हो, ट्रैफिक की आवाज़ कम हो, कम भीड़-भाड़ हो और जहां आप एकांत में कुछ पल शोर शराबे से दूर बिता सकें। लेकिन शोर और ध्वनि प्रदूषण साये की तरह हमारा पीछा करते हैं, हमारे हमारे देश में हालात ये हैं कि जश्न और आस्था के नाम पर शोर मचाने वाले लोग वक्त की परवाह नहीं करते, सड़कों पर बिना वजह प्रेशर हॉर्न बजाते हैं और पार्टी, शादी और प्रचार के नाम पर शांति पसंद लोगों की जिंदगी में शोर का ज़हर घोलते हैं।

Apr 26, 2016, 11:39 PM IST