close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झालावाड़ के बाजारों में श्रद्धालुओं का मन मोह रहीं बप्पा की प्रतिमाएं

शहर का पूरा बाजार नन्हें गणपति से लेकर विशाल गणपति से सजा हुआ नजर आ रहा है. बाजार में कही हाथों में क्रिकेट का बल्ला पकड़े गणपति तो कहीं तिरंगे रंग में गणेश की प्रतिमाएं श्रद्धालुओं का मन मोह रही हैं.

झालावाड़ के बाजारों में श्रद्धालुओं का मन मोह रहीं बप्पा की प्रतिमाएं
सोमवार से 10 दिवसीय गणेश उत्सव का आयोजन शुरू हो जाएगा.

महेश परिहार/झालावाड़: सोमवार को गणेश चतुर्थी के अवसर पर घर-घर गणेश स्थापना के साथ ही 10 दिवसीय गणेश उत्सव का आयोजन शुरू हो जाएगा. जिसे लेकर श्रद्धालुओं में भी खासा उत्साह दिखाई दे रहा है. वहीं जिला प्रशासन व पुलिस भी त्यौहारी माह में सांप्रदायिक सद्भाव व कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पूरी तरह तैयार दिखाई दे रही है.

वहीं झालावाड़ शहर के सिटी फोरलेन पर विशेष कारीगरों द्वारा लगाई अस्थाई दुकानों में गणपति प्रतिमाओं को खरीदने वाले श्रद्धालुओं की खासी भीड़ दिखाई दे रही है. शहर का पूरा बाजार नन्हें गणपति से लेकर विशाल गणपति से सजा हुआ नजर आ रहा है. बाजार में कही हाथों में क्रिकेट का बल्ला पकड़े गणपति तो कहीं तिरंगे रंग में गणेश की प्रतिमाएं श्रद्धालुओं का मन मोह रही हैं.

प्रतिमाएं खरीदने पहुंचे लोगों ने बताया कि पहले सीमावर्ती मध्य प्रदेश तथा भवानीमंडी क्षेत्र जाकर प्रतिमाए लाना पड़ता था, लेकिन अब विशेष कारीगरों द्वारा झालावाड़ में ही प्रतिमाओं का निर्माण किए जाने से मन पसंद प्रतिमाओं को खरीदना आसान हुआ है. विभिन्न गणेश मंडलों द्वारा तो इन गणेश प्रतिमा निर्माता कारीगरों को करीब 1 माह पूर्व हुई ऑर्डर बुक कर दिया गया, तब कहीं जाकर मन चाही प्रतिमाएं बन पाई.

इधर नन्हे बच्चे भी गणेश की अनूठी व आकर्षक मुद्रा वाली प्रतिमाएं पसंद कर स्थापना के लिए ले जा रहे हैं. हालांकि इस बार नागरिकों में मिट्टी की गणेश प्रतिमाओं की खरीद पर खासी रुचि दिखाई दे रही है. हर कोई प्लास्टर ऑफ पेरिस की प्रतिमा से किनारा करता नजर आ रहा है.

बहरहाल, अगले 10 दिन विभिन्न समुदायों के त्योहार व जुलूस का आयोजन होगा, ऐसे में जिला प्रशासन व पुलिस विभाग द्वारा भी सुरक्षा व्यवस्था को लेकर माकूल इंतजाम किए गए हैं, साथ ही थाना परिसरों में बैठक के माध्यम से सभी समुदायों को आपसी सामंजस्य के साथ एक दूसरे की धार्मिक भावनाओं का आदर करते हुए समारोह को संपन्न करने की अपील की गई है.