poetry

VIDEO : जब कवि नीरज ने बताया सबसे लंबे चले कवि सम्मेलन के बारे में..

चार दिसंबर को कवि गोपाल दास नीरज का जन्मदिन है. इस मौके पर हम ज़ी मीडिया के खज़ाने से लाए हैं कवि नीरज के साथ एक ख़ास इंटरव्यू जो मॉर्निंग ज़ी कार्यक्रम में लिया गया था.

Jan 4, 2020, 05:10 PM IST

गैंगरेप की घिनौनी वारदातों पर फूटा छात्राओं का गुस्सा...

जयपुर : गैंगरेप की घिनौनी वारदातों पर फूटा छात्राओं का गुस्सा... एक हजार छात्राओं ने मानव श्रृंखला बनाकर किया प्रदर्शन... बैनर, पोस्टरगैंगरेप की घिनौनी वारदातों पर फूटा छात्राओं का गुस्सा... के जरिए की अपराधियों को कड़ी सजा दिलाने की मांग..

Dec 5, 2019, 10:54 PM IST

रेप की घटनाओं पर कविता के जरिये उठाया बेटियों की सुरक्षा का मुद्दा

कोटा में एक कवयित्री ने रेप की घटनाओ को लेकर आरोपियों को कढ़ी सजा की मांग की...और कविता के जरिये बेटियों की सुरक्षा का मुद्दा उठाया

Dec 5, 2019, 07:00 PM IST

हैदराबादा की घटना को लेकर महिला ने लिखी मार्मिक कविता

तेलंगाना में हुए दुष्कर्म के घिनौने कृत्य के बाद पूरे देश में गुस्सा है...देशभर में लोग प्रदर्शन कर आरोपियों सख्त कार्रवाई की मांग कर रहे है... कोटा में एक कवयित्री ने इन घटनाओ को लेकर आरोपियों को कढ़ी सजा की मांग की...और कविता के जरिये बेटियों की सुरक्षा का मुद्दा उठाया

Dec 5, 2019, 04:24 PM IST

लड़कियों को धोखेबाज़ कहने पर मशहूर कवयित्री अनामिका जैन ने लड़कों को दिखाया आईना

डिजिटल कवि युद्ध एक ऐसा मंच है जहां कवि अपने मन की बात खुलकर रखते हैं. इस शो की होस्ट हैं अनामिका जैन अंबर (Anamika Jain Amber), जो खुद एक मशहूर कवयित्री हैं. अनामिका जैन अंबर और अजय अंजाम (Ajay Anjam) की कविताएं कभी आपको गुदगुदाएंगी और कभी सोचने पर मजबूर कर देंगे.

Jul 23, 2019, 05:30 PM IST

निर्मला ने बजट भाषण में किया चाणक्यनीति, उर्दू शेर और तमिल कविता का इस्तेमाल

निर्मला सीतारमरण ने उर्दू शेर पढ़े साथ ही शेर के लफ्जों का सही उच्चारण में दिक्कत के लिए संसद से माफी भी मांगी. 

Jul 6, 2019, 06:20 AM IST

भगवा लहर से चिढ़ी ममता !

भगवा लहर से चिढ़ी ममता ! देखें ये वीडियो...

मई 25, 2019, 09:20 AM IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर उनकी लिखी 5 कविताएं: 'जलते गए, जलाते गए'

हमारे दौर के सर्वाधिक लोकप्रिय और चर्चित व्यक्ति प्रधानमंत्री मोदी को समझने के लिए उनकी लिखी कविताओं से बेहतर और क्या हो सकता है. और इन कविताओं को पढ़ने के लिए उनके जन्मदिन से बेहतर दिन और कौन सा हो सकता है.

Sep 17, 2018, 12:07 AM IST

मधुशाला के परे: यहां लगता है कोई छोड़ गया है उर की गहरी पीर...

मधुशाला लोकप्रिय क्यों हुई? क्या काव्य के अंतर्निहित गुण के कारण? अगर कभी कोई समाज-विज्ञानी इस पर शोध करे और विश्लेषण करे तो बड़े ही रुचिकर निष्कर्ष निकलेंगे.

Aug 27, 2018, 01:09 PM IST

70% देश की आबादी पर दबदबा बनाने वाली BJP की जड़ थे वाजपेयी...

जनसंघ की स्‍थापना अक्‍टूबर, 1951 में डॉ श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी ने की थी. वह 1947 में आजाद भारत की पहली कैबिनेट के सदस्‍य थे. देश के पहले आम चुनावों (1951-52) में जनसंघ को तीन सीटें मिलीं और इसको देश की चार राष्‍ट्रीय पार्टियों की सूची में जगह मिली. 

Aug 16, 2018, 05:50 PM IST

'अटल' एक ऐसे नेता जिसने विश्व पटल पर दी हिन्दी को पहचान

1977 की जनता सरकार में विदेश मंत्री रहे अटल बिहारी वाजपेयी ने संयुक्त राष्ट्र संघ हिंदी में भाषण देकर अनूठी छाप छोड़ी. 

Aug 16, 2018, 05:50 PM IST

लौटकर आऊंगा, कूच से क्यों डरूं? इन कविताओं से 'अटल' हो गए वाजपेयी

लेखनी हो या फिर भाषण अटल बिहारी के धुर विरोधी नेता भी उनकी कविताएं पढ़ने के बाद उनकी तारीफ किए बिना नहीं रह पाते थे. 

Aug 16, 2018, 05:45 PM IST

राजनेता नहीं कवि बनना चाहते थे 'अटल', अधूरे मन से की थी राजनीति में एंट्री​

अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म मध्यप्रदेश के ग्वालियर में 25 दिसम्बर 1924 को हुआ था. उनके पिता कृष्ण बिहारी वाजपेयी शिक्षक थे. उनकी माता कृष्णा जी थीं. 

Aug 16, 2018, 05:40 PM IST

गीतों में कविता को शामिल किया जाना अच्छी पहल : इरशाद कामिल

गीतकार इरशाद कामिल का कहना है कि कविताएं बॉलीवुड में गीतों के रूम में वापसी कर रही हैं और उन्हें इस बात की खुशी है। 44 वर्षीय कामिल का झुकाव कविताओं और लोकधुनों की ओर है। यह चाहें बाबा फरीद का ‘कागा सब तन खाइयो’ हो या रॉकस्टार में ‘नादान परिंदे ’ हो ,या सुल्तान का ‘जग घूमिया हो , बेहद सराहे गए हैं।  उनके अनुसार बिना साहित्यिक पृष्ठभूमि के अच्छा गीत लिखना संभव नहीं है। कामिल ने बातचीत में बताया कि ‘मैं कविताओं को बॉलीवुड गीतों में शामिल करता रहा हूं। इसके साथ ही शब्दभंडार के क्षेत्र में भी नए नए प्रयोग कर रहा हूं ।

Jun 21, 2016, 05:14 PM IST

'कवि' बने संजय दत्त, जेल में लिखी कविताओं की छपवाएंगे किताब

यरवदा सेंट्रल जेल में अभिनेता संजय दत्त की दैनिक दिनचर्या में बेंत के सामान, पेपर बैग बनाने के साथ रेडियो जॉकी का काम शामिल था। लेकिन इन सब के अलावा अपने जीवन के अनुभवों को लिखने में भी उन्होंने खुद को व्यस्त रखा। अब उनके इन अनुभवों ने एक किताब का रूप ले लिया है।

Mar 6, 2016, 07:17 PM IST